Home राज्य छत्तीसगढ़ 41 साल पहले खैरागढ़ में लता मंगेशकर को डी लिट की उपाधि...

41 साल पहले खैरागढ़ में लता मंगेशकर को डी लिट की उपाधि से नवाजा गया

48
लता मंगेशकर को डी लिट

रायपुर। स्वर कोकिला भारत रत्न लता मंगेशकर ने निधन से पूरा देश दुखी है। लता जी का छत्तीसगढ़ से भी नाता रहा है। लता मंगेशकर 41 साल पहले खैरागढ़ (राजनांदगांव) आई थी। जहां इंदिरा गांधी कला संगीत विश्वविद्यालय ने लता मंगेशकर को डी लिट की उपाधि से नवाजा था। लता मंगेशकर छत्तीसगढ़ की धरती पर 2 फरवरी 1980 आई थीं। इस बीच उनके चाहने वाले लता की एक झलक पाने के लिए रायपुर से खैरागढ़ पहुंच गए थे।

छत्तीसगढ़ के जाने-माने गायक सुनील सोनी बताते है कि भखला फिल्म में मैं मुख्य गायक था। उस समय में फिल्म के गीत छूट जाही अंगना अटारी… छूटही बाबू के पिठइया के गीत को गाने के लिए लता जी बमुश्किल से गाने के लिए मानी थीं। फिल्म के गीतकार मदन शर्मा, कल्याण शर्मा, मनु नायक को लता मंगेशकर को मनाने के लिए मुंबई का चार बार चक्कर लगाना पड़ा।

तब लता जी की बहन उषा मंगेशकर के कहने पर गीत गाने के लिए वे राजी हुई थी। बताया गया कि साल नवंबर को 2007 में उनके स्टूडियो में एक दिन बिताया। यहां से गाने की पूरी डमी तैयार की गई। स्वरलता स्टूडियो मुंबई से लता जी ने आवाज दी और यह इतिहास में दर्ज हो गया

बताया जाता है कि गीतकार मदन को लता मंगेशकर ने फीस की तय रकम दो लाख में से 50 हजार रुपये मिठाई खाने के लिए लौटाते हुए कहा था कि ये मेरा पहला छत्तीसगढ़ी गीत है तो सबको मेरी तरफ से मिठाई खिलाना।