Home राज्य दिल्ली 80 साल की मां को सड़क पर बेसहारा छोड़ गए बेटे, बेरहमी...

80 साल की मां को सड़क पर बेसहारा छोड़ गए बेटे, बेरहमी की कहानी रोते हुए की बयां

9
80 साल की मां को सड़क पर बेसहारा छोड़ गए बेटे

नोएडा। बच्‍चे की खुशी के लिए मां अपनी पूरा जिंदगी न्‍योछावर कर देती है लेकिन जब मां बूढ़ी हो जाती है तो उन्‍हीं बच्‍चों के लिए वह बोझ बनने लगती है. सड़क पर बैठी 80 साल की मां की आंखों से निकलते आंसू उसके साथ हुए बर्ताव की कहानी साफ बयां कर रहे थे. बढ़ी मां सड़क पर लोगों से फरियाद कर रही थी लेकिन कोई भी उसकी फरियाद सुनने तक को तैयार नहीं था. तभी एक अनजान शख्‍स की नजर उसपर पड़ गई. शख्‍स ने जब बूढ़ी मां इस हालत का कारण पूछा तो उसके सब्र का बांध टूट गया. मामले की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने बुजुर्ग को जिला अस्‍पताल में भर्ती करा दिया है.

बस के ड्राइवर ने बुजुर्ग को सेक्‍टर 31 में उतार दिया

पुलिस के मुताबिक बुजुर्ग का नाम सोना देवी है और वह अपने बच्‍चों के साथ मथुरा में रहती हैं. महिला ने बताया कि उसके दो बेटे हैं. दोनों बेटों ने दो दिन पहले उन्‍हें काफी मारापीटा. इसके बाद दोनों उन्‍हें लेकर वृंदावन पहुंचे और उन्‍हें वहीं छोड़कर भाग निकले. कुछ देर तक जब बेटे वापस नहीं आए तो उन्‍होंने एक बस पकड़ी जो नोएडा आ गई. बस के ड्राइवर ने बुजुर्ग को सेक्‍टर 31 में उतार दिया. यहां पर वह सड़क पर दो दिन पड़ी रही. कुछ राहगीरों को बुजुर्ग पर तरस आया तो उन्‍होंने उसे रात में सोने के लिए रजाई दे दी. किसी ने भी बुजुर्ग के इस हाल के बारे में जानने की कोशिश नहीं की.

इसी दौरान एक दिन सेक्टर-31 के गार्ड मनीष यादव की नजर बुजुर्ग पर पड़ी. गार्ड ने बुजुर्ग से बात की उसका दिल पसीज गया. गार्ड ने बुजुर्ग की पूरे दिन देखभाल की. रात में जब मनीष घर जाने लगा तो महिला की जानकारी उसने वहां रहने वाले लोगों को दी. स्‍थानीय लोगों ने इसकी जानकारी पुलिस को दे दी. लोगों का आरोप है कि पीसीआर वहां आई, पर महिला को उसी हालत में छोड़कर वापस चली गई. तब लोगों ने इसकी शिकायत डीएम से कर दी. डीएम ने बुजुर्ग को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया.