Home राज्य छत्तीसगढ़ कोरोना संकट के बीच प्रदेश में अब तक की सबसे बड़ी प्रशासनिक...

कोरोना संकट के बीच प्रदेश में अब तक की सबसे बड़ी प्रशासनिक सर्जरी, 56 से ज्यादा आईएएस अफसरों का तबादला…जानिए वजह

18
प्रशासनिक सर्जरी

रायपुर। कोरोना संकट के बीच भूपेश सरकार ने अब तक की सबसे बड़ी प्रशासनिक सर्जरी की है। छत्तीसगढ़ में 56 से ज्यादा आईएएस अफसरों का तबादला कर दिया गया। इनमें 22 जिलों के कलेक्टर भी शामिल हैं। राज्य प्रशासनिक सेवा के भी 10 से अधिक अधिकारियों को बदल दिया गया।

मंगलवार को इस ट्रांसफर लिस्ट के आने के बाद प्रशासनिक गलियारों में तरह-तरह की चर्चाएं होती रहीं। जानकारों की मानें तो राज्य निर्माण के बाद से यह पहला मौका है जब इतने बड़े पैमाने पर अफसरों को बदला गया है।

कलेक्टरों के तबादले के पीछे कोरोना भी बड़ी वजह है। सूत्रों ने बताया कि इस महामारी से निपटने में बेहतर रिजल्ट न देने को मुख्य कारण माना गया है। साथ ही, कुछ सचिवों के प्रभार मंत्रियों की मांग पर बदले गए हैं। ये सचिव अपने काम में गंभीरता नहीं दिखा रहे थे। इस बदलाव में आईएएस के साथ ही राज्य प्रशासनिक सेवा के अफसरों को हटाया गया है। कुछ को नई जिम्मेदारियां भी दी गई हैं।

सरकार ने जल संसाधन विभाग में बड़े प्रोजेक्ट्स को ध्यान में रखकर एसीएस अमिताभ जैन को इसकी जिम्मेदारी दी है। जून में रिटायर हो रहे डॉ. आलोक शुक्ला को कौशल, विकास, तकनीकी शिक्षा एवं रोजगार की भी अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई है। एसीएस रेणु पिल्ले को चिकित्सा शिक्षा विभाग का जिम्मा सौंपा गया है, जबकि निहारिका बारिक सिंह को इससे मुक्त किया गया है।

जानकारी के मुताबिक आवासीय आयुक्त की जिम्मेदारी मनोज पिंगुआ को दी गई है। सिद्धार्थ कोमल परदेशी, प्रसन्ना आर. और सीआर प्रसन्ना का कद बढ़ा है। ग्रामोद्योग सचिव के रूप में भुवनेश यादव की मंत्रालय में वापसी हुई है, लेकिन उनसे हेल्थ कमिश्नर और एमडी सीजीएमएससी की जिम्मेदारी ले ली गई है।