Home देश पंजाब में सियासी संकट के बीच कैप्टन बोले-सत्ता के दो ध्रुव नामंजूर,...

पंजाब में सियासी संकट के बीच कैप्टन बोले-सत्ता के दो ध्रुव नामंजूर, 3-4 दिन में रिपोर्ट पेश करेगी कमेटी

10
पंजाब में सियासी संकट

नई दिल्ली। पंजाब के सियासी संकट के बीच राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कांग्रेस की तीन सदस्यीय समिति के सामने पेश हुए। इस दौरान उन्होंने खुद पर लगे आरोपों का जवाब दिया। बताया जाता है कि कैप्टन सरकार और संगठन में किसी भी तरह के फेरबदल के लिए तैयार हैं, लेकिन सत्ता के दो ध्रुव उन्हें मंजूर नहीं है। बैठक के बाद कैप्टन ने कहा कि राज्य में छह महीने में विधानसभा का चुनाव है और यह बैठक उसी सिलसिले में आंतरिक चर्चा के लिए बुलाई गई थी। समिति 3-4 दिनों में अपनी रिपोर्ट कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को सौंपेगी।

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि बैठक का एजेंडा दरअसल कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच मतभेद को पाटने के लिए था। जिस समय कैप्टन के साथ चर्चा हो रही थी, उस वक्त राहुल और प्रियंका गांधी वाड्रा भी वीडियो कांफ्रेंस के जरिये चर्चा से जुड़े थे। तीन घंटे तक चली बैठक में कैप्टन ने समिति के सदस्यों को विधायकों और नेताओं द्वारा खुद पर लगे आरोपों का जवाब दिया।

मुख्यमंत्री अपने साथ दस्तावेजी प्रमाण लाए थे, जो विधायकों और पंजाब कांग्रेस के नेताओं के काम कराने के सुबूत थे। कांग्रेस नेता और समिति के एक सदस्य हरीष रावत ने कहा कि सोनिया गांधी दो तीन दिनों के लिए बाहर हैं, इसलिए बैठक की पूरी रिपोर्ट तीन चार दिन बाद पार्टी अध्यक्ष को सौंपा जाएगा। तीन सदस्यीय समिति में रावत के अलावा मल्लिकार्जुन खरगे और जेपी अग्रवाल भी शामिल हैं।