शिक्षकों की कमी से जूझ रहा बालोद जिला, बावजूद स्कूल में पदस्थ शिक्षकों को रखा ऑफिस अटैच

रवि भूतड़ा
बालोद।
शिक्षा विभाग कितने भी दावे कर ले किंतु वास्तिवकता जमीनी हकीकत से कोसो दूर हैं। आज भी जिले के अधिकांश स्कूल शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं। इतना ही नही ज़िम्मेदार अफसरों ने कई शिक्षकों को ऑफिस कार्य के लिए अटैच कर के रखा हुआ हैं। इसके चलते उन शिक्षकों की कमी से स्कूल में बच्चों की पढ़ाई अवरुद्ध हो रही हैं।

ऐसा ही एक मामला डौंडीलोहारा से सामने आया हैं। जहां प्राथमिक शाला में पदस्थ एक शिक्षक को विगत 5 सालों से विकासखंड शिक्षा अधिकारी ने अपने कार्यालय में कम्प्यूटर ऑपरेटर के पद पर अटैच कर रखा हैं। शिक्षक महेश कोलियारे की मूल पदस्थापना प्राथमिक शाला सेमरडीह में हैं। पर 2013 से इन्हें बीईओ ने अपने कार्यालय में बाबू की मदद करने के लिए कम्प्यूटर ऑपरेटर के पद पर बिठा अटैच किया हैं।

इससे 5 सालों से बच्चों की पढ़ाई पर खासा असर पड़ रहा हैं। बता दे कि 5 सालों से शिक्षक महेश कोलियारे ने स्कूल का चेहरा तक नही देखा हैं। महेश कोलियारे बे बताया कि कई बार उन्होंने बीईओ से स्कूल भेजने की बात कही हैं। पर बीईओ इस ओर ध्यान नही देते और मुझे यहां कम्प्यूटर ऑपरेटर के रूप में कार्य करने के लिए रखा गया हैं।