Home बिलासपुर संभाग कोरबा बीजेपी प्रत्याशी के खिलाफ गांववालों का गुस्सा फूटा, काफिला रोककर तोड़ी गाड़ियां

बीजेपी प्रत्याशी के खिलाफ गांववालों का गुस्सा फूटा, काफिला रोककर तोड़ी गाड़ियां

37
बीजेपी प्रत्याशी के खिलाफ गांववालों का गुस्सा फूटा, काफिला रोककर तोड़ी गाड़ियां

कोरबा. तानाखार विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी के ऊपर हमला करने का मामला सामने आया है। इसके बाद प्रशासन द्वारा उन्हें सुरक्षा मुहैया करवाई गई है। आरोप है कि भाजपा प्रत्याशी रामदयाल उइके रविवार (4 नवंबर) की रात अपने समर्थकों के साथ क्षेत्र में चुनाव प्रचार कर शिवपुर गांव से वापस लौट रहे थे। इस दौरान कुछ ग्रामीणों ने पेड़ काटकर सड़क बाधित कर दिया और उनके काफिले को रोक दिया। इसके बाद ग्रामीणों ने काफिले की गाडि़यों को क्षतिग्रस्त कर दिया। साथ ही उनके समर्थकों के साथ भी मारपीट की गई। बता दें कि रामदयाल उइके पहले इसी क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी के विधायक थे। लेकिन आगामी चुनाव से पहले वे भाजपा में शामिल हो गए।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कथित तौर पर रामदयाल के काफिले पर हमला करने वाले ग्रामीण काफी आक्राेशित थे। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि उइके को उनलोगों ने क्षेत्र के विकास के लिए विधायक चुना था, लेकिन उन्होंने किसी तरह का विकास कार्य नहीं किया। मारपीट और गाडि़यों को क्षतिग्रस्त करने के मामले में भाजपा प्रत्याशी रामदयाल उइके के समर्थक ओमप्रकाश जगत ने स्थानीय पाली थाने में ग्रामीणों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया। उन्होंने अपने शिकायत में कहा, “करीब 150 की संख्या में ग्रामीणों ने योजनाबद्ध तरीके से हमारे साथ दुर्व्यवहार किया। हमारा रास्ता रोका और समर्थकों के साथ मारपीट की गई। कई गाडि़यों के शीशे तोड़ दिए गए। इस घटना में हमारे कई कार्यकर्ताओं को गंभीर चोटें आई है।” मामला दर्ज होन के बाद पुलिस ने शिवपुर गांव के 7 लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।


वहीं, रामदयाल उइके ने आरोप लगाया कि ये ग्रामीण नहीं, बल्कि गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के समर्थक हैं। उन्होंने कहा, “जब हम प्रचार कर शिवपुर से लौट रहे थे, तभी गणतंत्र पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उन्हें घेर लिया। कांटे व झाडि़यां डालकर उनका रास्ता रोक दिया। हमारे साथ गाली-गलौच भी की गई। हमारे कार्यकर्ताओं को निशाना बनाते हुए पत्थर भी फेंके गए।” उइके की शिकायत के बाद स्थानीय पुलिस और जिला प्रशासन की ओर से उन्हें सुरक्ष मुहैया करवाई गई है।