Home राज्य छत्तीसगढ़ भानुप्रतापपुर में अब भाजपा-कांग्रेस का सीधा मुकाबला, 14 ने नाम वापस लिए,...

भानुप्रतापपुर में अब भाजपा-कांग्रेस का सीधा मुकाबला, 14 ने नाम वापस लिए, अब 7 ही मैदान में

46
भानुप्रतापपुर में अब भाजपा-कांग्रेस का सीधा मुकाबला, 14 ने नाम वापस लिए, अब 7 ही मैदान में

रायपुर। भानुप्रतापपुर विधानसभा उपचुनाव का मैदान साफ हो चुका है। नाम वापसी के अंतिम दिन 14 लोगों ने अपना नामांकन वापस ले लिया। इसके बाद अब कांग्रेस की सावित्री मंडावी और भाजपा के ब्रह्मानंद नेताम सहित सात उम्मीदवारों के बीच ही मुकाबला होगा। निर्वाचन कार्यालय से बताया गया उप चुनाव के लिए कुल 39 लोगों ने नामांकन दाखिल किया था। स्क्रूटनी के बाद 18 लोगों का नामांकन रद्द हुआ।

आयोग के मुताबिक 18 नवम्बर को 21 नामांकन को वैध घोषित करते हुए सूची जारी हुई थी। उस दिन 14 निर्दलीय दावेदारों ने अपना नाम वापस ले लिया। इनमें अर्जुन सिंह, अयुनाराम ध्रुव, गौतम कुंजम, जीवन राम ठाकुर, दुर्याेधन दर्राे, देवप्रसाद जुर्री, नागेश कुमार महला, प्रमेश कुमार टेकाम, बलराम तेता, महात्मा कुमार दुग्गा, रेवतीरमन गोटा, रोहित कुमार नेताम, लक्ष्मीकांत गावड़े और सेवालाल चिराम का नाम शामिल है। अब चुनाव मैदान में सात उम्मीदवार बच गए हैं।

भानुप्रतापुर विधानसभा का उप चुनाव कांग्रेस विधायक मनोज मंडावी के निधन की वजह से हो रहा है। 16 अक्टूबर को सुबह दिल का दौरा पड़ने की वजह से मंडावी का निधन हो गया था। कांग्रेस ने मनोज मंडावी की पत्नी सावित्री मंडावी को मैदान में उतारा है। वहीं कांग्रेस ने एक बार पहले भी विधायक रह चुके ब्रह्मानंद नेताम पर दावं लगाया है। दोनों के प्रत्याशियों ने 17 नवम्बर को नामांकन किया था। माना जा रहा है कि इस चुनाव का प्रमुख मुकाबला इन्हीं दो दलों के बीच होगा।

भानुप्रतापपुर में ये तीन मंत्री संभालेंगे चुनावी मोर्चा

प्रदेश कांग्रेस ने भानुप्रतापपुर विधानसभा उपचुनाव के संचालन के समिति का गठन कर लिया है। कांकेर की प्रभारी मंत्री अनिला भेड़िया, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू और आबकारी मंत्री कवासी लखमा यहां चुनावी मोर्चा संभालेंगे। इसके अलावा संचालन समिति ने तीन विधायकों और दो सांसदों सहित 19 नेताओं को भी बड़ी जिम्मेदारी दी है। इससे पहले कांग्रेस अपने 43 विधायकों सहित करीब 70 नेताओं को सेक्टर प्रभारी बनाकर चुनावी मैदान में तैनात कर चुकी है।