Home राज्य छत्तीसगढ़ शिकायत के बाद सूरजपुर जिला पंचायत के सीईओ हटाए गए, सीएम भूपेश...

शिकायत के बाद सूरजपुर जिला पंचायत के सीईओ हटाए गए, सीएम भूपेश के निर्देश के बाद हुई कार्रवाई

21
सूरजपुर जिला पंचायत

सूरजपुर। सूरजपुर में लगातार मिल रही शिकायतों के बाद सीएम भूपेश बघेल ने सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। इसके बाद सूरजपुर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राहुल देव को हटा दिया गया। उनकी जगह लीना कोसमी को सूरजपुर जिला पंचायत का नया सीईओ बनाया गया है। सूरजपुर से मुख्यमंत्री के हेलिकॉप्टर के टेकऑफ होते ही सामान्य प्रशासन विभाग ने तबादले का आदेश जारी कर दिया।

गौरतबल है कि भारतीय प्रशासनिक सेवा 2016 बैच के अफसर राहुल देव को सूरजपुर से हटाकर जांजगीर-चांपा जिले में अपर कलेक्टर बनाया गया है। रविवार को प्रेमनगर विधानसभा में लगी चौपाल में कई लोगों ने जिला पंचायत में कमिशनखोरी की शिकायत की थी। आरोप था कि अधिकारी 20ः लिए बिना कोई काम नहीं करते। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस शिकायत की जांच के निर्देश दिए थे। जांच होने तक जिला पंचायत ब्म्व् को हटाने पर बात हुई। सोमवार को मुख्यमंत्री के सूरजपुर से रवाना होते ही सामान्य प्रशासन विभाग ने तबादले का आदेश जारी कर दिया। मुख्यमंत्री को कई विभागों की शिकायत मिली है।

इससे पहले सूरजपुर में पत्रकारों से चर्चा में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, अधिकांश अधिकारी अच्छा काम रहे हैं। जहां गड़बड़ी हो रही है, वहां सुधारने की जरूरत है। उन्होंने कहा, पंचायतों में काम सुधारने की जरूरत है। सुमेरपुर में टीचर नहीं जाते, बिहारपुर में एवजीदार पढ़ा रहे हैं। शिक्षा विभाग में बहुत कार्य करने की जरूरत है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि सरकार जल्दी ही गौ मूत्र की भी खरीदी शुरू करेगी। गौ मूत्र के संग्रहण, उसके भंडारण, प्रोसेसिंग, खरीदी रेट, बने उत्पादों के लिए मार्केट इन सबका आकलन करने के लिए समितियां बनाई गई हैं। गौ मूत्र खरीदी की पूरी योजना के लिए एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट बन रही है। मुख्यमंत्री ने कहा, गोबर और गौ मूत्र से गौ धन का महत्व बढेगा।