Home राज्य छत्तीसगढ़ cgaaj महिला दिवस स्पेशल : छग की साइबर क्वीन -मोनाली गुहा ,...

cgaaj महिला दिवस स्पेशल : छग की साइबर क्वीन -मोनाली गुहा , साइबर वर्ल्ड की जानी मानी हस्ती, 20 हज़ार से ज्यादा लोगों को दे चुकी हैं साइबर सुरक्षा की निःशुल्क ट्रेनिंग

141
सीजीआज महिला दिवस स्पेशल : छग की साइबर क्वीन -मोनाली गुहा , साइबर वर्ल्ड की जानी मानी हस्ती

रायपुर : हम सभी जानते हैं कि अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को मनाया जाता हैं। और जो नहीं जानते वो गूगल पर लिखेंगे तो सारी जानकारी कुछ ही सेंकंड में मिल भी जाएगी इसके साथ ही गूगल आपको उन सारी महिलाओं की भी जानकारी देगा जिन्होंने अपनी ज़िंदगी में अपने नाम व काम से मुकाम हासिल किया। ऐसी सभी महिलाएं प्रेरणा हैं, उन सभी महिलाओं के लिए जो समाज में कुछ करना चाहती हैं. एक ऐसा ही मुकाम हासिल करने वाली मोनाली गुहा।जी हां छत्तीसगढ़ की रहने वाली हैं और पेशे से सायबर एक्सपर्ट हैं।मोनाली ने अबतक के अपने करियर में कोई भी सीमित दायरा नहीं रखा इसलिए आज हम अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष लेख लेकर आए हैं।

मोनाली गुहा अब छत्तीसगढ़ की साइबर दुनिया का जानामाना नाम है।महज़ 20 साल की उम्र में उन्होंने अपने सिबलिंग्स के साथ आईटी और साइबर सेक्युरिटी का स्टार्टअप शुरू किया था और छत्तीसगढ़ की सबसे कम उम्र की महिला एंटरप्रेन्योर बनीं । कम्यूटर साइंस से इंजीनियरिंग करने के बाद करीब 26 भारतीय कम्पनीज में सेलेक्ट होने के बाद भी 22 करोड़ तक के सालाना पैकेज को भी जॉइन न करके कुछ अलग करने का ठाना और शुरू किया साइबर सिक्योरिटी अवेयरनेस मिशन और इसके चेयरपर्सन के रूप में खुद आगे बढ़ कर आज तकरीबन 20000 से ज्यादा लोगो को साइबर सेक्युरिटी की निःशुल्क शिक्षा दी ।

वे आज साइबर सेक्युरिटी पर रिसर्चर भी हैं

साथ ही युवाओं को रोज़गार दिलाने कई तरह के प्रयास भी कर रही हैं । इनके संस्थान टैक्नोकिंग ने अब तक लगभग 3000 लोंगो को तकनीकी शिक्षा ने दक्ष कर उन्हें भारत की कई कंपनियों में रोज़गार दिलवाया है वहीं इंजीनियरिंग में बढ़ती बेरोज़गारी को देखते हुए इन्होंने एक नए प्रोजेक्ट – प्रोजेक्ट सीआरटी को लांच किया है । इस प्रोजेक्ट की शुरुआत बेरोज़गारी के कारणों एवं उसके उन्मूलन के उपायों पर सर्वे के बाद की जा रही है जिसमे वो सारी ट्रेनिंग्स इनक्लूड की गई हैं जिनके आभाव में हज़ारों युवा बेरोज़गार बने दर दर भटक रहे हैं ।

मोनाली गुहा का कहना है कि एक स्टूडेंट ,पासआउट और प्रोफेशनल में ज़मीन आसमान का अंतर होता है और ये अंतर तबतक खत्म नही होगा जबतक युवाओं में टैक्निकल ,एनालिटिकल,प्रोफेशनल और इंटरपर्सनल स्किल्स डेवेलोप नही हो जाती । इस प्रोजेक्ट में इस तरह के 50 मॉड्यूल शामिल किए गए हैं जिसमे युवाओं को इसकी ट्रेनिंग दी जाएगी साथ ही सभी तरह की कंपनियों को इस प्रोजेक्ट से जोड़ा जा रहा है ताकि रोज़गार के अवसर और शिक्षित बेरोज़गारों को एक ही प्लेटफॉर्म पर कनेक्ट किया जा सके ।उन्होंने बताया कि उनके इस प्रोजेक्ट की सभी वर्ग के लोगों ने सराहना की है एवं छत्तीसगढ़ का ये प्रोजेक्ट अपने आप मे एक अनोखी पहल है ताकि आउटसोर्सिंग खत्म कर राज्य के युवा बेरोजगारों को बेहतर मौके राज्य में ही दिए जा सकें ।

विश्वपटल पर छत्तीसगढ़ भारत का नाम कर चुकी हैं रौशन – 96% के साथ वर्ल्ड वाइड रैंकिंग सर्टिफिकेशन्स – मोनाली गुहा ने अब तक – सर्टिफाइड एथिकल हैकर ,सर्टिफाइड सिक्योर कम्यूटर यूज़र , सर्टिफाइड पेनेट्रेशन टेस्टिंग इंजीनियर , कम्यूटर हैकिंग फोरेंसिक इन्वेस्टिगेटर , चीफ इन्फॉर्मेशन सिस्टम सिक्योरिटी ऑफिसर आदि इंटरनेशनल सर्टिफिकेशन्स क्रैक कर चुकी हैं वहीं साइबर फोरेंसिक की वर्ल्ड वाइड परीक्षा में 96% अंक अर्जित किए , वर्ल्ड रैंकिंग हासिल कर छत्तीसगढ़ का गौरव विश्व पटल पर अंकित किया है ।

मोनाली गुहा न सिर्फ टैक्नोकिंग वेब्सॉफ्ट सॉल्यूशन की टैक्निकल डायरेक्टर हैं बल्कि विश्वस्तरीय सर्टिफाइड एथिकल हैकर और कम्यूटर हैकिंग फॉरेंसिक इन्वेस्टिगेटर भी हैं । अपने साइबर ज्ञान की मदद से वो कई तरह से पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियों को अपनी सेवाएं देती हैं वहीं निजी स्तर पर भी महिलाओं एवं बच्चियों को मदद भी करती हैं ।साथ ही साइबर सेक्युरिटी में कैरियर बनाने के लिए युवाओं को प्रेरित भी करती हैं ।

मोटिवेशनल स्पीकर और कैरियर काउंसलर के रूप में एक अलग ही छवि बनाई है मोनाली गुहा ने
बताया कि वे समय समय पर स्कूली एवं कॉलेज में पढ़ने वाले बच्चों को कैरियर काउंसलिंग और मोटिवेशन के फ्री शेशन्स देती हैं और बच्चे भी विशिष्ट रूचि के साथ उनसे अपनी समस्या बता कर मार्गदर्शन लेते हैं । उन्होंने बताया कि बच्चे अपने मन की बात किसी को भी सही तरह से समझा नही पाते और पेरेंट्स के दबाव में आकर अनचाहा कैरियर चुन लेते हैं जो आगे चलकर बेरोज़गारी का बड़ा कारण बनता है इसीलिए उनकी कोशिश रहती है कि कक्षा 9वीं के छात्रों से ही इंटरैक्टिव शेशन्स वो लेने शुरू कर दें ताकि सही समय मे युवा अपने इंटरेस्ट और फ्यूचर स्कोप के आधार पर सही कैरियर का चयन कर पाएं ।

कई मंचों पर विभिन्न संस्थानों एवं सरकार द्वारा हो चुकी हैं सम्मानित, कहा सम्मान से बढ़ता है आत्मविश्वास

अब तक कई बड़े संस्थानों एवं सरकार द्वारा इन्हें अपने कार्य के लिए संम्मानित किया जा चुका है , ऑफिस और घर पर रखे तमाम मेडल्स , सर्टिफिकेट्स मोमेंटो आदि इनकी कड़ी मेहनत और लगन के साक्षी हैं । मोनाली गुहा के ऑफिसरूम को विज़िट करने से ही पता चलता है कि अब सम्मान स्वरूप मिले मोमेंटोज़,सर्टिफिकेट्स आदि को स्थान देने के लिए दीवारें छोटी पड़ रही हैं ,अर्थात हर एक सम्मान अपने पीछे एक लंबी कहानी लिए सुशोभित है ।उन्हें अपने प्रयासों पर विश्वास है जो जनसेवा बेहतर हैं और युवा भारत के निर्माण में अतुल्य योगदान दे रहे हैं

कार्य एवं सामाजिक क्षेत्र में योगदान – मोनाली गुहा न सर्फ टैक्नोकिंग वेब्सॉफ्ट सॉल्युशन प्राइवेट लिमिटेड की टेक्निकल डायरेक्टर हैं बल्कि , पूरे देश को सुरक्षा प्रदान करने के लिए विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों , पुलिस , डिफेंस आदि के साथ भी काम करती हैं , ताकि राष्ट्रीय सुरक्षा को और मजबूती प्रदान की जा सके ।

आतंकवादियों की भी की थी धरपकड़

नाइजीरियन साइबर आतंकवादियों के एक बड़े गिरोह को ट्रेस कर हज़ारों महिलाओं को साइबर आतंकियों से बचने में इनका महत्वपूर्ण योगदान रहा , जिन्हें सन 2018 में रायपुर पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया । इन्होंने इसके अलावा भी सैंकड़ों क्रिटिकल केसेस हैंडल किये हैं ।

पढ़ाई एवं एक्स्ट्राकरिक्युलर ऐक्टिविटीज़ में भी हमेशा से रही हैं अव्वल

मोनाली बचपन से ही पढ़ाई और हर ऐक्टिविटीज़ में आगे रही हैं , स्कूल में ब्लॉक टॉपर ,कॉलेज में हमेशा आगे और अब एमबीए की परीक्षा में भी ,फर्स्ट सेमेस्टर के रिज़ल्ट में 82% अंकों के साथ यूनिवर्सिटी टॉपर वहीं कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के संचार फेस्ट 2019 में सबसे ज्यादा पुरुस्कार जितने वाली प्रतिभागी बनीं।

बड़े कॉरपोरेट्स ,ब्यूरोट्रेट्स एवम पुलिस को भी देती हैं साइबर सुरक्षा की ट्रेनिंग

इतनी कम उम्र में ही मोनाली आज छत्तीसगढ़ प्रशासन अकेडमी ,छत्तीसगढ़ पुलिस ट्रेनिंग अकादमी ,एवं कई अन्य बड़े प्रशासनिक संस्थानों एवम प्राइवेट ऑफिशियल्स को ट्रेनिंग देने का अनुभव रखती हैं , मोनाली चाहती हैं कि उनके अनुभव का लाभ समाज के हर व्यक्ति को मिल पाए इसलिए वे हमेशा लोगों की मदद करने में तत्पर रहती हैं ।