Home साइंस एंड टेक्नोलॉजी एजुकेशन/करियर छत्तीसगढ़ः कॉलेजों में इंजीनियरिंग पढ़ाने के लिए अब आठ मॉड्यूल वाला सर्टिफिकेट...

छत्तीसगढ़ः कॉलेजों में इंजीनियरिंग पढ़ाने के लिए अब आठ मॉड्यूल वाला सर्टिफिकेट कोर्स अनिवार्य

50
इंजीनियरिंग

भिलाई। स्कूलों में पढ़ाने के लिए जिस तरह बीएड और एमएड जरूरी है, इसी तरह अब इंजीनियरिंग और पॉलीटेक्निक कॉलेजों में पढ़ाने वालों के लिए 8 माड्यूल वाले सर्टिफिकेट कोर्स करना अनिवार्य होगा। इस सर्टिफिकेट के बिना उम्मीदवार की नियुक्ति नहीं होगी। वहीं जो शिक्षक शासकीय या निजी इंजीनियरिंग कॉलेजों में पढ़ा रहे हैं, उनको बिना कोर्स किए अब प्रमोशन नहीं होगा। पहले एमटेक होल्डर उम्मीदवार को बीई या डिप्लोमा कोर्स पढ़ाने के योग्य मान लिया जाता था।

तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एमके वर्मा ने बताया कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने एसोसिएट समेत प्रोफेसरों की नियुक्ति संबंधी नियम में संशोधन किया है। दो साल बाद यह सभी तकनीकी शिक्षण संस्थानों के लिए मैंडेटरी हो जाएगा। छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय में भी इसे अगले सत्र से अनिवार्य रूप से लागू कर दिया जाएगा। एक प्रशिक्षित व्यक्ति द्वारा क्लास लेने से तकनीकी संस्थानों में शिक्षा का स्तर और ऊपर उठने की उम्मीद है।

आठ माड्यूल में प्रशिक्षण लेना होगा अनिवार्य

ओरिएंटेशन टू-वर्ड्स टेक्निकल एजुकेशन एंड कॅरिकुलम आस्पेक्ट्स।
प्रोफेशनल एथिक्स एंड सस्टेनेबिलिटी।
कम्युनिकेशन स्किल, मोड्स एंड नॉलेज डिसीमिनेशन।
इंस्ट्रक्शनल प्लानिंग एंड डिलिवरी।
टेक्नोलॉजी अनेबल लर्निंग एंड लाइफ लांग सेल्फ लर्निंग।
स्टूडेंट असेस्मेंट एंड इवेल्युएशन।
क्रिएटिव प्रॉब्लम साल्विंग, इनोवेशन एंड मीनिंगफुल रैंड डी।
इंस्टीट्यूशनल मैनेजमेंट एंड एडमिनिस्ट्रेटिव प्रोसीजर।