Home साइंस एंड टेक्नोलॉजी एजुकेशन/करियर छत्तीसगढ़ः यूनिवर्सिटी, सरकारी, निजी कॉलेज के प्रोफेशनल कोर्सों की फीस यूजीसी तय...

छत्तीसगढ़ः यूनिवर्सिटी, सरकारी, निजी कॉलेज के प्रोफेशनल कोर्सों की फीस यूजीसी तय करेगा

5
यूजीसी

रायगढ़। देशभर के सरकारी, अनुदान प्राप्त और निजी कॉलेज और यूनिवर्सिटी में चल रहे प्रोफेशनल कोर्सेस की फीस अब यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (यूजीसी) तय करेगा। यानी कॉलेज और यूनिवर्सिटी खुद फीस तय नहीं कर पाएंगे।

किस कॉलेज में किस कोर्स की कितनी फीस होगी इसके लिए कॉलेजों से सभी जानकारी ऑनलाइन मंगवाई जाएगी। इसके लिए अलग से सॉफ्टवेयर भी बनेगा। कोई भी कॉलेज सालभर में जितनी राशि फैकल्टी के वेतन, इन्फ्रास्ट्रक्चर पर खर्च करेगा, उससे अधिकतम 15 फीसदी अधिक राशि वह फीस के तौर पर वसूल सकेगा।

किस कॉलेज में किस कोर्स की कितनी फीस होगी इसके लिए कॉलेजों से सभी जानकारी ऑनलाइन मंगवाई जाएगी। इसके लिए अलग से सॉफ्टवेयर भी बनेगा। कोई भी कॉलेज सालभर में जितनी राशि फैकल्टी के वेतन, इन्फ्रास्ट्रक्चर पर खर्च करेगा, उससे अधिकतम 15 फीसदी अधिक राशि वह फीस के तौर पर वसूल सकेगा। छत्तीसगढ़, यूजीसी, ऑनलाइन फीस

यूजीसी सचिव रजनीश जैन की तरफ से इस मामले में एक पत्र जारी किया गया। यूजीसी खर्च रिपोर्ट के आधार पर तय करेगी कि किस कॉलेज को छात्र संख्या के हिसाब से कितनी फीस वसूलना होगी। इस फैसले के बाद उन कॉलेजों पर लगाम लग सकेगी जो बगैर क्वालिटी टीचिंग के मोटी फीस वसूलते हैं।

यूजीसी के इस फैसले का असर देशभर में प्रोफेशनल कोर्स चला रहे करीब 32 हजार कॉलेजों और 845 यूनिवर्सिटी पर पड़ेगा। इस फैसले का असर एमबीए इंजीनियरिंग, बीबीए, बीसीए, एमसीए, बीबीए एलएलबी, बीए एलएलबी और अन्य प्रोफेशनल कोर्सेस पर पड़ेगा।

कॉलेजों में प्रति सेमेस्टर 25 हजार से डेढ़ लाख रुपए तक है फीस

अभी इन कोर्सेस में फीस को लेकर किसी का कोई कंट्रोल नहीं है। कोई संस्थान एमबीए जैसे कोर्स की फीस प्रति सेमेस्टर 25 हजार रुपए तक वसूल रहा है तो कोई यही फीस डेढ़ लाख रुपए तक ले रहा है। अब यूजीसी की गाइडलाइन के अनुसार ही कॉलेज फीस ले पाएंगे।