Home राज्य उत्तरप्रदेश छत्तीसगढ़ः चुनाव में कहां हुई चूक, कांग्रेस आज और कल करेगी मंथन

छत्तीसगढ़ः चुनाव में कहां हुई चूक, कांग्रेस आज और कल करेगी मंथन

36
कांग्रेस

रायपुर। विधानसभा चुनाव में उम्मीद से बड़ी जीत के बाद पांच माह में ऐसा क्या हुआ कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी शिकस्त मिली। इस पर कांग्रेस के आला-नेता, मंत्री, विधायक और पदाधिकारी दो दिन मंथन करेंगे। शनिवार रात को पार्टी के प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया और मुख्यमंत्री व पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल मंत्रियों और पार्टी के विधायकों की बैठक लेंगे।

विधायकों के परफॉर्मेंस पर बात होगी। वहीं, रविवार को प्रदेश कार्यकारी समिति के सदस्य, प्रत्याशी और जिलाध्यक्ष अपनी-अपनी रिपोर्ट रखेंगे। प्रत्याशियों के साथ पुनिया वन-टू-वन चर्चा भी कर सकते हैं।

11 सीटों पर जीत का दावा करने वाली कांग्रेस यहां केवल अपनी एक सीट बढ़ा पाई। छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद 2019 के पहले हुए तीन लोकसभा चुनाव में हर बार कांग्रेस को केवल एक-एक सीट ही मिल रही थी। इस बार दो सीट मिली है, इसके बाद भी पार्टी के आला-नेता संतुष्ट नहीं हैं।

नौ सीटों पर हार की समीक्षा के लिए पुनिया के अलावा एआइसीसी के प्रभारी सचिव डॉ. चंदन यादव और डॉ. अर्स्ण उरांव भी आ रहे हैं। शनिवार रात आठ बजे मुख्यमंत्री निवास में पुनिया, बघेल और उरांव मंत्रियों -विधायकों की बैठक लेंगे।

विधानसभा क्षेत्र में मिले वोटों की होगी समीक्षा

इसमें एक-एक विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस को मिले वोटों की समीक्षा होगी। कहां किस विधायक ने पार्टी प्रत्याशी को लीड दिलाया और कहां पीछे रह गए। रविवार को पार्टी के प्रदेश मुख्यालय राजीव भवन में मैराथन बैठक होगी। सुबह 11 बजे प्रदेश कार्यकारी समिति, दोपहर 12 बजे लोकसभा चुनाव के प्रत्याशियों, दोपहर दो बजे जिला व शहर अध्यक्षों की बैठक होगी। सभी बैठक में पुनिया, बघेल, उरांव के अलावा डॉ. चंदन यादव भी शामिल होंगे।

प्रत्याशी और जिलाध्यक्ष रखेंगे रिपोर्ट

पार्टी सूत्रों की मानें तो रविवार को आला-नेताओं के सामने सभी जिलाध्यक्ष विधानसभा क्षेत्रवार वोट की बढ़त और गिरावट के कारण के साथ रिपोर्ट रखेंगे। इसके पहले हारे हुए प्रत्याशी भी अपनी हार के कारण के साथ रिपोर्ट देंगे। कुछ प्रत्याशियों का कहना है कि उनके साथ भितरघात हुआ है, जिसकी वे शिकायत करेंगे। पार्टी के जो विधायक भारी मतों से विधानसभा चुनाव में जीते थे, उसमें से ज्यादातर के क्षेत्र में लोकसभा चुनाव में भारी अंतर से हार हुई है। पार्टी सूत्रों के अनुसार प्रदेश कांग्रेस कमेटी में बदलाव को लेकर भी पुनिया और बघेल के बीच चर्चा हो सकती है।