Home राज्य छत्तीसगढ़ विधानसभा में संविदा, नियमितीकरण पर सदन में हंगामा, विपक्ष का वॉकआउट

विधानसभा में संविदा, नियमितीकरण पर सदन में हंगामा, विपक्ष का वॉकआउट

35
विधानसभा में संविदा, नियमितीकरण पर सदन में हंगामा, विपक्ष का वॉकआउट

रायपुर। विधानसभा मानसून सत्र के छठवें दिन भी हंगामेदार चल रहा है। आज सदन की कार्रवाई प्रश्नकाल से शुरू हुई। इस दौरान नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने अनियमित, संविदा, दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों का नियमितीकरण का मामला सदन में उठाया। इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जवाब दिया, जिससे विपक्ष असंतुष्ट नजर आया और पक्ष एवं विपक्ष के नेताओं में जोरदार हंगामा देखने को मिला। इसके बाद स्पीकर ने कार्यवाही 10 मिनट तक के लिए स्थगित कर दिया।

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने पूछा- कितने कर्मचारियों को नियमित किया गया? मुख्यमंत्री भूपेश ने कहा कि 11 दिसम्बर 2019 को प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग तथा सार्वजनिक उपक्रम की अध्यक्षता में प्रमुख सचिव विधि-विधायी, सचिव सामान्य प्रशासन, सचिव वित्त, सचिव पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग और सचिव आदिम जाति-अनुसूचित जनजाति विकास विभाग की एक कमेटी बनाई गई है।

विभागों और निगम, मंडल और आयोगों से कार्यरत अनियमित, दैनिक वेतनभोगी और संविदा कर्मचारियों की जानकारी मंगाई गई है। कई विभागों से आ चुके हैं और कई विभागों से आनी बाक़ी है। कई मामले कोर्ट में भी चल रहे हैं। 28 मई 2019 को महाधिवक्ता को चिट्ठी लिखकर अभिमत माँगा गया है। कोरोना की वजह से भी देरी हुई। अब हालात सामान्य हो रहे हैं। कब तक होगा समय सीमा बताना निश्चित नहीं है। हमारी कोशिश है कि घोषणा पत्र के वादे पूरे कर दिए जाए।

वहीं, बीजेपी विधायक अजय चंद्राकर ने कहा कि आज ही की प्रश्नोत्तरी में एक जवाब में बताया गया है कि 25 लोगों का नियमितिकरण किया गया है। इसके लिए अभिमत कैसे मिल गया? बीजेपी विधायक शिवरतन शर्मा ने कहा कि कमेटी ने अब तक अनुशंसा नहीं की है? 9 जनवरी 2020 को कमेटी की बैठक हुई थी। ढाई साल बीत गए।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि- अभिमत भी आएगा और नियमितिकरण भी होगा। भारी शोर शराबे के बीच सदन की कार्यवाही दस मिनट के लिए स्थगित। सदन की कार्यवाही स्थगित होने के बाद फिर से सदन की कार्यवाही शुरू हुई और विपक्ष ने फिर से इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से जवाब मांगा। हालांकि अनियमित, संविदा ,दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के नियमितीकरण के मामले में विपक्ष के नेता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के जवाब से असंतुष्ट नजर आए और सदन का वॉकआउट किया।