Home राज्य छत्तीसगढ़ कोरोना से बचाव की सामग्री मास्क पीपीई किट में लाखों का भ्रष्टाचार...

कोरोना से बचाव की सामग्री मास्क पीपीई किट में लाखों का भ्रष्टाचार उजागर, शिकायत और सतर्कता विभाग ने लिया संज्ञान में

23
भ्रष्टाचार

मनेन्द्रगढ़। पूरा विश्व एक ओर कोरोना महामारी की मार को झेल रहा है। वहीं दूसरी तरफ मिनी रत्न का दर्जा प्राप्त एसईसीएल उपक्रम कोरोना के कहर को कोरोना त्योहार मनाकर कमाई के अवसर में कैसे बदला जाए इस व्यवस्था में लगा हुआ था।

इसका उदाहरण एसईसीएल हसदेव क्षेत्र में देखने को मिला है जहां कोरोना की महामारी से बचाव के लिए उपयोग में आने वाले स्वास्थ्य संबंधी सामग्री में लाखों रुपए का भ्रष्टाचार अधिकारियों की मिलीभगत से किया गया है क्या इस भ्रष्टाचार में शामिल दोषी अधिकारियों के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी, जिससे ये संदेश के रूप में सभी को ज्ञात हो कि महामारी के रूप में संकट के समय में अपने स्वार्थ में भ्रष्टाचार को छोड़कर आपदा के समय में देशभक्ति और मानव सेवा करें ।

कोल इंडिया के एसईसीएल उपक्रम के हसदेव क्षेत्र में कोविड-19 के नाम पर अधिकारियों की मिलीभगत से लाखों का भ्रष्टाचार किये जाने के संबंध में मुख्य सतर्कता अधिकारी, कोयला मंत्रालय शास्त्री भवन नई दिल्ली ,सतर्कता अधिकारी कोल इंडिया मुख्यालय कोलकाता, कार्मिक निदेशक एसईसीएल मुख्यालय बिलासपुर सहित विभिन्न अधिकारियों को इस मामले की जांच कराकर दोषी अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही करने की मांग की गई थी।

स्वास्थ्य सम्बन्धी सामग्री एन-95 मास्क, पीपीई किट, सर्जिकल मास्क थ्री लेयर, सर्जिकल कैप, हाइपोक्लोराइड सैल्यूशन, थर्मल स्कैनर(नॉन कांटेक्ट थर्मामीटर), एन-95 मास्क विथ रेस्पीरेटर, पीपीई किट (80 जी एस एम) की खरीदी तीन आपूर्ति आदेश के माध्यम से मेसर्स-वर्षा सर्जिकल एण्ड मेडिकल, बीके टॉवर बलदेव बाग जबलपुर (मप्र) से लगभग 15 लाख रूपये में की गई है।

इन सामग्रियों को क्रय करने में कई प्रकार की अनियमितताएं बरती गई है 1- एन-95 मास्क जो क्रय किया गया है। वह अत्यंत ही निम्न स्तर और सस्ते दर का क्रय किया गया है, एन-95 के स्थान पर धूल को रोकने वाला मास्क क्रय किया गया है, जो बाजार मूल्य से दोगुने से तीन गुना अधिक मूल्य पर, पीपीई किट बिना ब्रांड और घटिया गुडवत्ता का लिया गया है, क्रय करने के बाद से अब तक संभवतः इस किट का उपयोग नहीं किया गया है, इससे अंदाजा लगाया जा सकता है। क्रय किया गया किट कितना घटिया गुडवत्ता का है।

साथ ही यह किट बाजार मूल्य से दो-तीन गुना अधिक मूल्य पर क्रय किया गया है,सर्जिकल मास्क थ्री लेयर, सर्जिकल कैप, हाइपोक्लोराइड सैल्यूशन, थर्मल स्कैनर (नॉन कांटेक्ट थर्मामीटर), एन-95 मास्क विथ रेस्पीरेटर, पीपीई किट (80 जीएसएम)यह सब भी बाजार से दुगुने और तिगुने दरो पर खरीदा गया है, हसदेव क्षेत्र से नजदीक छत्तीशगढ़ के बिलासपुर, रायपुर से इन सभी सामग्री को क्रय न करके अपनी सांठ-गांठ के अनुसार खरीदी मेसर्स- वर्षा सर्जिकल एण्ड मेडिकल, बीके टॉवर बलदेव बाग जबलपुर (मप्र) से क्रय किया गया इतना ही नहीं इन सामानों को लेने के लिए लॉकडाउन की अवधि में प्रशासन से अनुमति लेकर मनेन्द्रगढ़ से जबलपुर तक की यात्रा एके भक्ता, वरीय प्रबंधक स्टोर के द्वारा किया गया है जो सीआई एसएफ में अटैच गाड़ी से दवा लेने गए थे।

तत्कालिक महाप्रबंधक हसदेव क्षेत्र, वर्तमान पदस्थापना एनसीएल उपक्रम, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी, सीएचएम हसदेव, चीफ मैनेजर, सामग्री क्रय हसदेव क्षेत्र एके भक्ता, वरीय प्रबंधक (स्टोर), हसदेव क्षेत्र इन अधिकारियों के विरुद्ध शिकायत करके उच्च स्तरीय जांच कराकर कार्रवाई की मांग की गई थी, इसी कड़ी में अब जांच की प्रक्रिया प्रारंभ हो गई है।

एसईसीएल उपक्रम के सतर्कता विभाग के महाप्रबंधक सतर्कता के द्वारा जारी पत्र क्रमांक एसईसीएलध् विजिलेंस /08/2020/1766 दिनांक 13/08/2020 के माध्यम से इस पूरे मामले के दस्तावेज मंगाए गए हैं ।