Home राज्य मध्यप्रदेश आज मध्यप्रदेश में स्पीकर का चुनाव, दिग्विजय ने बीजेपी पर लगाया आरोप,...

आज मध्यप्रदेश में स्पीकर का चुनाव, दिग्विजय ने बीजेपी पर लगाया आरोप, कहा-विधायकों को 100-100 करोड़ का लालच दे रही है भाजपा

0
आज मध्यप्रदेश में स्पीकर का चुनाव, दिग्विजय ने बीजेपी पर लगाया आरोप, कहा-विधायकां को 100-100 करोड़ का लालच दे रही है भाजपा

भोपाल. राज्य की कांग्रेस सरकार का पहला शक्ति परीक्षण मंगलवार को स्पीकर के चुनाव में होगा। कांग्रेस ने एनपी प्रजापति और भाजपा ने विजय शाह को मैदान में उतारा है। प्रदेश में 52 साल पहले 1967 में स्पीकर के लिए वोटिंग हुई थी। उधर, कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि भाजपा के कई नेताओं ने हमारे विधायकों को 100-100 करोड़ रुपए का ऑफर दिया है, ताकि वे भाजपा के पक्ष में वोटिंग करें। भास्कर से बातचीत में उन्होंने कहा- मेरे पास इस बात के पुख्ता सबूत रिकाॅर्डिंग में हैं। जरूरत पड़ने पर इसे सार्वजनिक करूंगा।

नाराज दत्तीगांव से मिले मुख्यमंत्री, केपी सिंह ने देखा तक नहीं

कांग्रेस ने पहली बार के विधायकों को बताया- वोट कैसे डालना है। मुख्यमंत्री कमलनाथ की ओर से दिए गए रात्रिभोज में चारों निर्दलीय प्रदीप जायसवाल, सुरेंद्र ठाकुर, विक्रम राणा, केदार डाबर समेत बसपा के संजीव कुशवाह और सपा के राजेश शुक्ला शामिल हुए। नाराज चल रहे विधायक राजवर्धन दत्तीगांव से मुख्यमंत्री सीट पर मिलने पहुंचे। लेकिन, केपी सिंह ने शपथ लेने के बाद मुख्यमंत्री की ओर देखा तक नहीं। ऐसे में भाजपा के आठ असंतुष्ट विधायकों पर भी कांग्रेस की नजर है।

भाजपा ने नरोत्तम, भूपेंद्र और विश्वास को सक्रिय किया

भाजपा में विजय शाह को जिताने की जिम्मेदारी राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने संभाल रखी है। इस बारे में उनकी नरोत्तम, भूपेंद्र सिंह और विश्वास सारंग समेत अन्य नेताओं से देर रात तक कई बार चर्चा हुई। भाजपा विधायक दल की बैठक में कांग्रेस के असंतुष्ट, छोटे दलों के विधायकों से संपर्क के प्रयास किए जा रहे हैं। भाजपा संगठन ने तीन टीमें बनाई हैं जो भाजपा के विधायकों को निगरानी में रखे हुए हैं। यशोधरा राजे सिंधिया ने विधानसभा को एक सप्ताह के अवकाश की सूचना दी थी, लेकिन उन्हें हर हाल में मंगलवार को विधानसभा में उपस्थित रहने को कहा गया है।

हम बहुमत सिद्ध कर देंगे- नाथ

कमलनाथ ने कहा कि हमारी सरकार को पूर्ण बहुमत प्राप्त है। सदन में अध्यक्ष के चुनाव में भी इसे सिद्ध कर देंगे। प्रोटेम स्पीकर के चयन में संसदीय परंपरा तोड़ने के भाजपा के आरोप पर उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि मुझे संसदीय परंपराओं के बारे में ज्ञान न दें। में स्वयं लोकसभा में प्रोटेम स्पीकर रहा हूं।

मुझे मंत्री तो बनाना ही पड़ेगा: रामबाई

बसपा की पथरिया से विधायक रामबाई सिंह ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के लोगों के उनके पास फोन आ रहे हैं। कांग्रेस को उन्हें मंत्री तो बनाना होगा। अगर उन्हें मंत्री नहीं बनाया जाता तो उन्हें पता है कि मंत्री कैसे बना जाता है। उधर, समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष गौरी यादव ने कहा कि अगर बिजावर विधायक राजेश शुक्ला को मंत्री नहीं बनाया जाता तो कांग्रेस को इसके दुष्परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

प्रोटेम स्पीकर के चयन में तोड़ी संसदीय परंपरा: शिवराज

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सदन में कहा कि कांग्रेस ने प्रोटेम स्पीकर के चयन में संसदीय परंपरा तोड़ी है। सदन में जब सात से आठ बार के विधायक हैं तो वरिष्ठता के आधार पर उन्हें प्रोटेम स्पीकर बनाया जाना चाहिए। उधर, कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि 2014 में लोकसभा में भाजपा को स्पष्ट बहुमत होने के बाद भी वरिष्ठतम सांसद होने के नाते कमलनाथ को प्रोटेम स्पीकर बनाया गया था।