Home साइंस एंड टेक्नोलॉजी एजुकेशन/करियर स्कूली शिक्षा व्यवस्था में पंजाब, केरल समेत पांज राज्यों को ए++, छत्तीसगढ़...

स्कूली शिक्षा व्यवस्था में पंजाब, केरल समेत पांज राज्यों को ए++, छत्तीसगढ़ पिछड़ा

12
स्कूली शिक्षा व्यवस्था

नई दिल्ली/रायपुर। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने रविवार को स्कूली शिक्षा व्यवस्था का परफॉरमेंस ग्रेडिंग इंडेक्स (पीजीआई) जारी किया। इसमें पंजाब, चंडीगढ़, तमिलनाडु, अंडमान-निकोबार और केरल को 2019-20 में उच्चतम ग्रेड ए++ दिया गया है।

दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, राजस्थान, पुड्डुचेरी, दादरा और नगर हवेली को ए+ श्रेणी मिली है, जबकि छत्तीसगढ़ पिछड़ गया है। हालांकि इस रिपोर्ट से छत्तीसगढ़ का स्कूल शिक्षा विभाग सहमत नहीं है। राज्य का कहना है कि जिस समय यह ग्रेडिंग की गई और जिन 70 बिंदुओं पर रिपोर्ट मांगी गई उस समय तो स्कूल बंद रहे हैं। फिर आज हालत बदल गए हैं। राज्य ने पिछले एक साल में कई रिफार्म किए, जिससे केंद्र ने प्रशंसा की और कई अवार्ड भी दिए हैं।

इस रिपोर्ट के मुताबिक 33 राज्यों (केंद्रशासित प्रदेशों समेत) ने स्कोर में सुधार किया है। पंजाब, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, अंडमान-निकोबार, आंध्रप्रदेश, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर में कम से कम 20 फीसदी सुधार हुआ है। जबकि 13 राज्यों के बुनियादी ढांचे और सुविधाओं में 10 फीसदी सुधार दिखा है। रिपोर्ट में छत्तीसगढ़ प्रदेश 7वीं कैटगरी में है। छत्तीसगढ़ साल 2018-19 के मुकाबले कमजोर रहा है। 7वीं कैटगरी में छत्तीसगढ़ के साथ नागालैंड और अरुणाचल प्रदेश है।

वहीं 19 राज्य शासन क्षेत्र में 10 फीसदी या उससे अधिक सुधार कर सके हैं। पंजाब ने शासन-प्रबंधन में सबसे ज्यादा अंक हासिल किए हैं। बिहार और मेघालय बुनियादी ढांचों और सुविधाओं में सबसे पीछे रहे। पीजीआई रिपोर्ट बीते तीन साल से जारी की जा रही है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने नई पीजीआई रिपोर्ट पर संतोष जताया। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य सभी राज्यों को उच्चतम स्तर पर रखना है।