Home राज्य छत्तीसगढ़ बस्तर के इन गांवों में बाढ़ के हालात, राहत केंद्रों में ग्रामीणों...

बस्तर के इन गांवों में बाढ़ के हालात, राहत केंद्रों में ग्रामीणों ने ली शरण

18
बस्तर

जगदलपुर। बस्तर ब्लॉक के ग्राम पंचायत मधोता के ग्रामीणों के लिए यह बारिश आफत बन कर आई। मार्कंडेय नदी, नारंगी नदी में लगातार बढ़ते जल स्तर से जहां 2 दर्जन से अधिक परिवार घरों में पानी भरने के कारण अपने छोटे-छोटे बच्चों को लेकर राहत केन्द्र में शरण लेनी पड़ी है।

ग्रामीण जहां मध्य रात्रि से ही अपने बच्चों धान, मक्का, मढिया सहित अन्य खाद्य सामग्रियों को निकालकर सुरक्षित स्थानों में ले जा रहे थे। शाला भवन की चार दीवारी के अंदर अपने जानवरों को रखे थे। सुबह जब पानी वहां भी भरने लगा तो जंगल के आगे के स्थानों में ले जाने लगे।

बाढ़ की भीषण स्थति से परिजन तो पहले से ही वाकिफ थे किन्तु छोटे- छोटे बच्चों को यह समझ ही नहीं आ रहा था कि आखिर क्या हो रहा है। आसपास के घरों के बच्चो को लेकर परिजन चारपाई में बिठाकर सुरक्षित स्थानों तक ल रहे थे।

मधोता माटापारा के ग्रामीण नाथूराम, सामु राम, नरसिंग, सोनसिंह, धीरमनी, सोमनराम, कमलसिंग, सुदर राम, दलूराम, गोबर राम, मोसूराम, कमलूराम, घनसिंह, सूदरु के मकान बाढ़ से घिरे हुए हैं। वंही नदी पारा में रहने वाले लेखन राम, मेहतर राम का मकान भी काफी प्रभावित हुआ है।