Home क्राइम देश में पहली बार: उज्जैन में रेपिस्ट के खिलाफ चार्जशीट और फिर...

देश में पहली बार: उज्जैन में रेपिस्ट के खिलाफ चार्जशीट और फिर 6 घंटे में सजा का ऐलान

73

उज्जैन में 4 साल की बालिका से ज्यादती के आरोपी को कोर्ट ने चालान पेश करने के 6 घंटे बाद ही फैसला सुना दिया। प्रदेश में अब तक दुष्कर्म व हत्या के 11 दोषियों को फांसी की सजा।

उज्जैन। देश में पहली बार रेप के मामले में किशोर न्याय बोर्ड उज्जैन ने चार्जशीट दाखिल होने के 6 घंटे के अंदर सजा का ऐलान कर मध्यप्रदेश ने मिसाल कायम की है। सोमवार को न्याय बोर्ड ने ज्यादती करने वाले 14 साल के किशोर को दो साल के लिए बाल संप्रेक्षण गृह सिवनी भेजने का आदेश दिया।

खास बात यह है कि इसे बलात्कार के किसी मामले में संभवतः सबसे तेजी से ट्रायल और सजा के तौर पर देखा जा रहा है। घटना 6 दिन पहले की है।

उज्जैन के पुलिस अधीक्षक (एसपी) सचिन अतुलकर का कहना है कि जिले के घट्टिया के ग्राम जलवा में रहने वाली 4 साल की बालिका से 15 अगस्त को गांव के ही किशोर ने घर बुलाकर दुष्कर्म किया था।

घटना के बाद किशोर भागकर राजस्थान के चौमहला में अपने रिश्तेदार के यहां चला गया था। 16 अगस्त की रात को उसे चौमहला इलाके में एक रिश्तेदार के घर से गिरफ्तार किया गया।

एसपी अतुलकर ने बताया कि 24 घंटे में ही डीएनए रिपोर्ट मिल गई, जिसमें बच्ची से दुष्कर्म की पुष्टि हुई। इसके बाद सोमवार सुबह 11 बजे मालनवासा स्थित किशोर न्याय बोर्ड में चालान प्रस्तुत किया।

जज तृप्ति पांडे ने तत्काल सुनवाई शुरू कर दी। गवाहों, अन्य सबूतों, मेडिकल तथा डीएनए रिपोर्ट के आधार पर बोर्ड ने किशोर को दोषी पाया।

जज ने आरोप पत्र पेश होने के चंद घंटों के अंदर ही अपना फैसला सुना दिया। दोषी नाबालिग को सिवनी जूवेनाइल होम में सजा के तौर पर दो साल गुजारने होंगे।

रेप के इन मामलों में भी तेजी से सजा

— 8 अगस्त को मध्य प्रदेश के ही दतिया की एक अदालत ने बच्ची के साथ रेप के दोषी को महज 3 दिन की सुनवाई के बाद मौत होने तक कैद की सजा का ऐलान किया था।
— छतरपुर जिले की स्थानीय अदालत ने इसी महीने एक दो साल की मासूम बच्ची के साथ रेप करने वाले एक शख्स को फांसी की सजा सुनाई है। इस मामले में कोर्ट में चली 27 दिनों की सुनवाई के बाद कोर्ट ने इसे ‘रेयरेस्ट ऑफ रेयर’ केस मानते हुए आरोपी तौहीद खान को फांसी की सजा सुनाई।

24 अप्रैल 2018 को दो साल की मासूम को उसने अपनी हवस का शिकार बनाया था।
— 8 जुलाई को मध्य प्रदेश के सागर जिले में रेप के मामले का ट्रायल महज 46 दिनों में पूरा करके आरोपी को सजा दी गई। 21 मई को एक नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार के मामले में खमरिया निवासी आरोपी भग्गी उर्फ भगीरथ को मौत की सजा सुनाई गई।
— इसी वर्ष राजस्थान के अलवर जिले में भी एससी-एसटी कोर्ट ने 7 महीने की एक मासूम बच्ची के साथ अपहरण और रेप किए जाने के मामले में दोषी को फांसी की सजा दी थी।

<p></>