Home राज्य छत्तीसगढ़ आज सुबह राहुल को फ्रूटी और केले लिए गए, रेस्क्यू में चट्टान...

आज सुबह राहुल को फ्रूटी और केले लिए गए, रेस्क्यू में चट्टान बड़ी चुनौती

11
आज सुबह राहुल को फ्रूटी और केले लिए गए, रेस्क्यू में चट्टान बड़ी चुनौती

जांजगीर। जिले के पिहरीद गांव में बोरवेल में फंसे 11 सल के राहुल को बचाने के लिए पूरी सिस्टम लग गई है। सुबह 7 बजे तक बच्चे को गिरे 60 घंटे हो चुके हैं। रात के वक्त राहुल सो गया था। मूवमेंट नहीं होने के कारण रेस्क्यू ऑपरेशन बंद करना पड़ा। इस बीच सुबह करीब 5 बजे जब मूवमेंट हुआ तो उसे खाने के लिए फ्रूटी और केले दिए गए।

कलेक्टर जितेंद्र शुक्ला ने बताया कि राहुल अभी 3 मीटर की दूरी में फंसा हुआ है। चट्टान की वजह से टनल बनाने में दिक्कत आ रही है। कोई भी मशीन लगाने से पहले बच्चे के बारे में सोच कर ही कदम उठाया जा रहा है। एनडीआरएफ टीम का दावा है कि अब तक कई ऑपरेशन किए, लेकिन यह सबसे अलग है। दूसरी ओर, कलेक्टर जितेंद्र शुक्ला ने कहा कि चट्टानों की बाधा को हम चुनौती के रूप में ले रहे हैं।

जानकारी के अनुसार राहुल को निकालने के लिए 60 घंटे से अधिक समय से रेस्क्यू चल रहा है। रविवार को रोबोट की मदद से बच्चे को बाहर निकालने में सफलता नहीं मिलने पर रविवार की देर रात सुरंग बनाने का काम शुरू कर दिया गया है। कुछ ही घंटे में बच्चे तक पहुंचने की बात कही जा रही है। रोबोट विशेषज्ञ आने के बाद टनल बनाने का काम कुछ घंटे रुक गया था।

सीएम भूपेश लगातार ले रहे अपडेट

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी राहुल के लिए बेहद चिंतित हैं, यही वजह है कि वे रातभर लगातार रेस्क्यू का अपडेट लेते रहे। मुख्यमंत्री बघेल ने कल राहुल के स्वजन से वीडियो काल पर फिर बात की। उन्होंने कहा कि बिलकुल चिंता न करें हम पूरा प्रयास कर रहे हैं कि राहुल का शीघ्र रेस्क्यू हो और वह जल्द ही हम लोगों के बीच सकुशल आएगा।

राहुल के साथ शुक्रवार हुआ था हादसा

राहुल साहू (10) का शुक्रवार दोपहर 2 बजे के बाद से कुछ पता नहीं चला। जब घर के ही कुछ लोग बाड़ी की तरफ गए तो राहुल के रोने की आवाज आ रही थी। गड्‌ढे के पास जाकर देखने पर पता चला कि आवाज अंदर से आ रही है। बोरवेल का गड्‌ढा 80 फीट गहरा है। ये भी बताया गया है कि बच्चा मूक-बधिर है, मानसिक रूप से काफी कमजोर है।