Home राज्य छत्तीसगढ़ सरकार का काम आंदोलन नहीं, सेवा करना है, देश हित में रेलबंदी...

सरकार का काम आंदोलन नहीं, सेवा करना है, देश हित में रेलबंदी का फैसलाः बृजमोहन

22
सरकार का काम आंदोलन नहीं, सेवा करना है, देश हित में रेलबंदी का फैसलाः बृजमोहन

बिलासपुर। इन दिनों भाजपा-कांग्रेस में बयानबाजी चल रही है। इस बीच, पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने शिक्षा मंत्री के बयान को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि सरकार जब खुद शराब पीने के तरीके बताए तो उसकी सोच का पता चलता है। छत्तीसगढ़ की जनता कांग्रेस की सरकार को खोज रही है। उन्होंने रेल बंदी के निर्णय को देशहित में लिया गया फैसला बताया है।

एक निजी प्रवास पर शहर पहुंचे भाजपा के सीनियर लीडर और पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने मीडिया से बातचीत करते हुए स्कूल शिक्षामंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम के बयान के बहाने राज्य सरकार की कार्यप्रणाली पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि नशा मुक्ति के कार्यक्रम में अगर सरकार के मंत्री ये कहें कि शराब कैसे पीनी चाहिए, कैसे डायलूट करना चाहिए। सड़कों में गड्ढे हो जाए तो एक्सीडेंट कम होते हैं। इससे सरकार की सोच का पता चलता है। ऐसे में वे बच्चों को क्या शिक्षा देंगे।

कांग्रेस की ओर से भाजपा सांसद के लापता होने के आरोपों के सवाल पर उन्होंने कहा कि भाजपा सांसद नहीं बल्कि, कांग्रेस की सरकार लापता है और प्रदेश की जनता सरकार को ढूंढ रही है। उन्होंने कहा कि सरकार का काम आंदोलन करना नहीं जनता की सेवा करना है। जो सड़कों के गड्ढे भर नहीं पा रहे हैं वे आज आंदोलन कर रहे हैं। इसका मतलब साफ है सरकार के पास कोई काम नहीं बचा है। जनता इनसे नाराज हैं। इसलिए वे आंदोलन कर रहे हैं।