Home राज्य छत्तीसगढ़ हैलो मैं डिप्टी कलेक्टर बोल रही हूं..कुछ इस अंदाज में “पब्लिक हेल्प...

हैलो मैं डिप्टी कलेक्टर बोल रही हूं..कुछ इस अंदाज में “पब्लिक हेल्प डेस्क” में आए आवेदनों के सम्बंध में डॉ. प्रियंका ने जानकारी ली

157
हैलो मैं डिप्टी कलेक्टर बोल रही हूं..कुछ इस अंदाज में

रवि भूतड़ा

बालोद : हैलो मैं डिप्टी कलेक्टर डॉ. प्रियंका वर्मा बात कर रही हूं, आपने जो “पब्लिक हेल्प डेस्क” में आवेदन दिया था, क्या उसका निराकरण हुआ और आप क्या संतुष्ठ हैं..? कुछ इन अंदाज में डिप्टी कलेक्टर डॉ. प्रियंका वर्मा ने जिले के विभागों में स्तिथ “पब्लिक हेल्प डेस्क” के निरीक्षण के दौरान पाए गए आवेदनों व उसके निराकरण के संबंध में सम्बंधित आवेदनकर्ता को फोन के जरिये जानकारी ली।

कलेक्टर किरण कौशल के मार्गदर्शन में शासकीय कार्यालयों में आम नागरिकों की सहूलियत के लिए स्थापित किए गए ‘‘पब्लिक हेल्प डेस्क‘‘ से आम नागरिकों को लाभ मिल रहा है। ‘‘पब्लिक हेल्प डेस्क‘‘ के माध्यम से आम नागरिकों को विभागीय योजनाओं का लाभ लेने मार्गदर्शन प्रदान किया जा रहा है, वहीं छोटी-छोटी समस्याओं का निराकरण भी हो रहा है।

कलेक्टर के मार्गदर्शन में गुरुवार को डिप्टी कलेक्टर डाॅ. प्रियंका वर्मा ने जनपद पंचायत कार्यालय बालोद, तहसील कार्यालय, खाद्य विभाग, श्रम विभाग और क्रेडा विभाग में स्थापित पब्लिक हेल्प डेस्क का आकस्मिक निरीक्षण किया। उन्होंने पब्लिक हेल्प डेस्क में नियमित रूप से जिम्मेदार कर्मचारियों की ड्यूटी सुनिश्चित करने संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए। तहसील कार्यालय बालोद में स्थापित पब्लिक हेल्प डेस्क के प्रभारी अधिकारी ने बताया कि आज सात आवेदन प्राप्त हुए।

डिप्टी कलेक्टर डाॅ. वर्मा ने ग्राम हीरापुर के अशोक कुमार से मोबाइल पर सम्पर्क कर उनके द्वारा दिए गए आवेदन के संबंध में पूछा। अशोक कुमार ने डिप्टी कलेक्टर को बताया कि वह द्वितीय ऋण पुस्तिका के संबंध में आवेदन दिया है और पब्लिक हेल्प डेस्क के प्रभारी अधिकारी द्वारा दिए गए मार्गदर्शन से वह संतुष्ट है। ग्राम मेड़की के श्यामलाल साहू द्वारा रिकार्ड दुरूस्त करने संबंधी आवेदन दिया गया। आवेदन पर त्वरित कार्यवाही कर संबंधित पटवारी के पास निराकरण हेतु भेजा गया।

बालोद के सौरभ द्वारा निवास प्रमाण पत्र बनाने हेतु दिए गए आवेदन पर उसे निवास प्रमाण पत्र बनाने की प्रक्रिया हेतु मार्गदर्षन दिया गया। ग्राम जगतरा के शशांक को बटवारा के संबंध में मार्गदर्शन दिया गया। ग्राम नागाडबरी के डोमार सिंह द्वारा बंदोबस्त त्रुटि सुधार के संबंध में जानकारी लेने पर उसे बंदोबस्त त्रुटि सुधार के संबंध में मागदर्शन दिया गया।