Home राज्य छत्तीसगढ़ आई प्रवीर द आदिवासी गाड फिल्म फेयर के लिए नामांकित, इस कैटेगिरी...

आई प्रवीर द आदिवासी गाड फिल्म फेयर के लिए नामांकित, इस कैटेगिरी में मिली जगह

31
आई प्रवीर द आदिवासी गाड फिल्म फेयर के लिए नामांकित, इस कैटेगिरी में मिली जगह

जगदलपुर। बस्तर रियासत के अंतिम व सबसे लोकप्रिय महाराजा रहे स्वर्गीय प्रवीरचंद भंजदेव पर आधारित आई प्रवीर द आदिवासी गाड को फिल्म फेयर के लिए नामांकित हुई है। इसकी पूरी शूटिंग बस्तर और दंतेवाड़ा के ग्रामीण क्षेत्र में हुई है। फिल्म के निदेशक विवेक कुमार हैं। 20 मिनट की इस फिल्म में प्रवीरचंद भंजदेव के जीवन, संघर्ष और आदिवासियों की उनके प्रति गहरी आस्था को को बताया गया है।

बस्तर पर बनी आई प्रवीर द आदिवासी गाड फिल्म को फिल्मफेयर के शार्टफिल्म कैटगिरी में जगह मिली है। इस कैटेगरी में टाप 30 फिल्मों का चयन किया गया है। इसके अलावा क्रिटिक्स वर्ग में भी इसका सलेक्शन बाकी है। इसमें बिना वोटिंग के कंटेंट के आधार पर ही अवॉर्ड दिया जाएगा। बता दें कि यह फिल्म रिलीज होने से पहले ही चर्चा में आ गई है। आई प्रवीर द आदिवासी गाड, लोहंडीगुड़ा तरंगिणी, योग के आधार योग तत्व, ज्ञान संबंध का निरूपण उनकी चर्चित रचनाएं हैं।

निदेशक विवेक कुमार के अनुसार बस्तर महाराजा प्रवीरचंद भंजदेव से आज भी बस्तर के मूल निवासी अपने आप को सीधे जोड़ते हैं। बस्तरवासी महाराजा की कमी आज भी महसूस करते हैं। इसके पीछे एक कारण राजनेताओं द्वारा तैयार किए गए तंत्र का उन्हें फायदा नहीं मिल पाना। बस्तर के मूल निवासियों की पुरानी पीढ़ी मानती है कि प्रवीरचंद भंजदेव होते तो आज ये दिन नहीं देखने पड़ते। बस्तरवासियों की पूरी सुनवाई होती।

पहले भी फिल्म फेस्टिवल में मिल चुकी है जगह

बताया गया कि इस फिल्म को तीन राष्ट्रीय व एक अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में जगह मिल चुकी है। केरल के एसआईजीएनएस फिल्म फेस्टिवल, कोलकाता में साउथ एशियन शार्ट फिल्म फेस्टिवल, केरल में ही इंटरनेशल डाक्यूमेंट्री फेस्टिवल और बंगाल इंटरनेशल शार्ट फिल्म फेस्टिवल में स्थान मिल चुका है। इसके अलावा ब्राजील में फ्राइसिने फेस्टिवल में भी इसे जगह मिल चुकी है।