Home साइंस एंड टेक्नोलॉजी एजुकेशन/करियर कोरोना संकट के कारण अगर सीटें रहेंगी खाली तो कैसे चलेंगे इस...

कोरोना संकट के कारण अगर सीटें रहेंगी खाली तो कैसे चलेंगे इस जिले काॅलेजें

16
कोरोना संकट

बिलासपुर। कोरोना संकट के बीच प्रदेश के काॅलेजों में पढ़ाई पूरी तरह बंद है। इसी क्रम में बिलासपुर संभाग के 44 बीएड-एमएड कॉलेज तालाबंदी की कगार पर हैं। सत्र 2020-21 में प्रवेश परीक्षा के लिए संभाग से 10 फीसदी से भी कम आवेदन जमा हुए हैं। शिक्षाजगत में इसे लेकर चिंतन शुरू हो चुका है। निजी शिक्षण संस्थानों के शिक्षक, कर्मचारी की नौकरी पर भी खतरा मंडराने लगा है।

व्यायवसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) ने बीएड, एमएड व डीएलएड में प्रवेश परीक्षा के लिए 30 मई तक ऑनलाइन आवेदन जमा करने का मौका दिया था। अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय से संबद्ध संभाग के 44 शिक्षा महाविद्यालय में 44 सौ सीट हैं। अंतिम तिथि तक चार सौ आवेदन भी जमा नहीं हुए। यानी 10 फीसदी से भी कम। बीते आठ वर्षों में ऐसा आंकड़ा कभी सामने नहीं आया।

एनसीटीई के द्वि-वर्षीय पाठ्यक्रम रेगुलेशन 2014 आने के बाद भी इतनी बुरी स्थिति नहीं बनी थी। कोरोना काल में इस भयावाह स्थिति ने कॉलेज चेयरमैन की नींद उड़ा दी है। शिक्षा महाविद्यालयों में कार्यरत टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टॉफ भी सहम गए हैं। उनका कहना है कि यही स्थिति बनी रही तो इस साल उनका नौकरी से हाथ धोना तय है। व्यापमं के एक अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर यह भी बताया कि राज्यभर में करीब 15 हजार सीट हैं, जिसके लिए 18 सौ से भी कम आवेदन जमा हुए हैं।