Home देश सियासी संकट के बीच झारखंड से छत्तीसगढ़ के लिए तीन बसों में...

सियासी संकट के बीच झारखंड से छत्तीसगढ़ के लिए तीन बसों में निकले विधायक, सोरेन बोले-कोई चाल नहीं चलने दूंगा

43
सियासी संकट के बीच झारखंड से छत्तीसगढ़ के लिए तीन बसों में निकले विधायक, सोरेन बोले-कोई चाल नहीं चलने दूंगा

रांची। सियासी संकट के बीच झारखंड में छत्तीसगढ़ के लिए विधायक रवाना हो गए हैं। रांची के सीएम आवास से बैठक खत्म होने के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपने विधायकों को 3 बसों में लेकर निकले हैं, उन्हें सुरक्षित रिसॉर्ट में ले जाया गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ये सभी विधायक छत्तीसगढ़ आ रहे हैं।

इसी बीच सीएम हेमंत सोरेन ने भी अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि यह आदिवासी का बेटा है। इनकी चाल से हमारा रास्ता न कभी रुका है, न हम लोग कभी इन लोगों से डरे हैं।

झारखंड में सियासी उठापटक के बीच शनिवार को सीएम हाउस में महागठबंधन के विधायकों की बैठक खत्म हो गई है। 3 लग्जरी बसों से विधायकों को सीएम हाउस से कहीं और शिफ्ट किया जा रहा है। बसों में कांग्रेस और जेएमएम के विधायक सवार हैं। तीनों बसों को पुलिस सुरक्षा में ले जाया जा रहा है। पीछे से सीएम हेमंत सोरेन का काफिला भी चल रहा है।

बैठक में पहले ही विधायक बैग लेकर पहुंचे थे। मांडर से कांग्रेस की विधायक शिल्पी नेहा तिर्की ने कहा कि हर परिस्थिति के लिए तैयार रहने को कहा गया है। इसलिए बैग लेकर आए हैं। अगर यहां रखा जाएगा तो यहीं रहेंगे। सीएम हाउस में रहने को कहा जायेगा तो वहां रहेंगे। अभी कोई जानकारी नहीं है। जैसा कहा जायेगा वैसा करना होगा।

ये है पूरा मामला

हेमंत सोरेन को रांची जिले के अनगड़ा ब्लॉक में 0.88 एकड़ ज़मीन का खनन पट्टा मिला था। दस्तावेजों के मुताबिक 28 मई 2021 को हेमंत सोरेन ने आवेदन दिया और उन्हें 15 जून 2021 को मंजूरी मिल गई थी। इसके बाद 9 सितंबर को पर्यावरण विभाग से मंजूरी मांगी गई जो 22 सितंबर को मिल गई। 11 फरवरी 2022 को बीजेपी ने राज्यपाल से मिलकर शिकायत की कि ये लाभ के पद का मामला बनता है और सीएम खुद के नाम से खनन पट्टा नहीं ले सकते। इसके बाद हेमंत सोरेन ने 11 फरवरी 2022 को लीज सरेंडर करके खुद को अलग कर लिया।