Home क्राइम नियमों को ताक पर रख शराब दुकानों में चल रहा “अहाता”-, अवैध...

नियमों को ताक पर रख शराब दुकानों में चल रहा “अहाता”-, अवैध तरीके से संचालित चखना दुकाने, थाना-आबकारी विभाग के अधिकारी ही लगवाते हैं ठेले-खोमचे

98

बालोद. जिला मुख्यालय स्तिथ देशी-विदेशी शराब दुकानों के सामने फिर से अवैध तरीके से अहाता याने की चखना दुकाने संचालित की जा रही हैं, थाना और आबकारी विभाग के सानिध्य में चखना दुकाने संचालित की जा रही हैं, चखना दुकानों के पास न ही किसी प्रकार की अनुमति हैं और न ही लाईसेंस, बावजूद सारे नियम कायदों को ताक में रख दुकाने संचालित की जा रही हैं.

उल्लेखनीय हो की जिले में संचालित सभी देशी-विदेशी शराब दुकानों के ठीक सामने ही दर्जनों चखना दुकाने संचालित की जा रही हैं, जिला मुख्यालय स्तिथ भी देशी-विदेशी शराब दूकान के सामने फिर से चखना दुकानों का संचालन बेधड़क किया जा रहा हैं, थाना व आबकारी विभाग के सानिध्य में अवैध तरीके से चखना दुकान संचालित हो रही हैं.

वही सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार थाना के कुछ पुलिसकर्मीयों का तो हफ्ता महिना भी फिक्स हैं, वह बाद अलग हैं कभी कबार की कार्यवाही कर अखबारों में सुर्खियाँ जरुर बटोर लेते हैं, फिर बाद में चखना दूकान खुलने का खेल शुरू हो जाता हैं, वही आबकारी विभाग के दिए निर्देश अनुसार भट्टी के पास खाद्य सामग्री एवं प्लास्टिक के सामानों का बिक्री करने की मनाही हैं, बावजूद इसके चखना दूकान वाले निश्चित होकर डिस्पोजल और चखना परोस रहे हैं,

पुलिसकर्मियों का फिक्स हैं हफ्ता महीना

बालोद थाने के कई पुलिसकर्मी चखना दुकानों से हफ्ता और महीना फिक्स कर रखे हुए हैं, तभी तो चखना दुकानों पर जब कार्यवाही की जाती हैं, उसके ठीक कुछ दिनों के बाद ही दुकाने दोबारा से संचालित होनी शुरू हो जाती हैं, और यह हालत सिर्फ बालोद थाने की नही हैं, बल्कि जिले में सभी थानों में कुछ पुलिसकर्मियों के सानिध्य में चखना दुकाने संचालित हो रही हैं, और बकायदा हफ्ता महिना फिक्स किया गया हैं, तभी तो चखना दुकान के संचालक दम ठोक कहते हैं के हमारा कुछ नही होगा, सब सेटिंग हैं,