Home राज्य छत्तीसगढ़ आज रात से रायपुर में लाॅकडाउन, इस बार किराना दुकानें भी नहीं...

आज रात से रायपुर में लाॅकडाउन, इस बार किराना दुकानें भी नहीं खुलेंगीं…सिर्फ ये मिलेगा बाजार में

15
लाॅकडाउन

रायपुर। राजधानी रायपुर में कोरोना विस्फोट के बाद प्रशासन ने 22 जुलाई यानी बुधवार से 28 जुलाई तक लाॅकडाउन घोषित किया है, जिस पर अमल मंगलवार को रात 12 बजे से शुरू हो जाएगा। पुलिस धारा 144 का पालन करवाने के लिए इससे पहले ही मंगलवार शाम से सड़कों पर उतरने की तैयारी कर रही है। इस बार का लॉकडाउन ज्यादा सख्त होगा, क्योंकि पहली बार किराना दुकानें भी नहीं खुलेंगी।

अफसरों ने साफ कर दिया कि मंगलवार को लोग जरूरत का किराना ले सकते हैं, क्योंकि इसके बाद एक हफ्ते तक किसी किराना व्यापारी को दुकान खोलने की इजाजत नहीं होगी। हालांकि सवारी गाड़ियां नहीं चलेंगी, धार्मिक संस्थान बंद रहेंगे। साथ ही मंत्रालय व संचालनालय के सभी दफ्तर भी बंद रहेंगे।

थोड़ी राहत यही है कि सुबह 6 से 10 बजे तक सब्जी, दूध, ब्रेड, चिकन, मटन, मछली और फल खरीद सकते हैं। लाॅकडाउन के दौरान पेट्रोल पंप और गैस सिलेंडरों की सप्लाई दोपहर 3 बजे तक रहेगी। कलेक्टर डॉ. एस भारतीदासन के मुताबिक इस बार का लॉकडाउन पहले से दोगुना सख्त होगा। केवल चुनिंदा दुकानों को ही खोलने की अनुमति दी गई है। किसी ने भी दुकान खोलने की कोशिश की तो चेतावनी दिए बिना उसे सील कर दिया जाएगा।

दुकानदार के खिलाफ एफआईआर करके उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा। सुबह 10 बजे के बाद लोग बिना पुख्ता कारण के पकड़े गए तो उन्हें जेल जाना पड़ सकता है। केवल इमरजेंसी वालों को ही बाहर निकलने की अनुमति होगी। इसे सख्ती से लागू करने के लिए रायपुर और बिरगांव निगम के सभी वार्डों में पुलिस लगातार गश्त करेगी। इस बार पिछले लाॅकडाउन के मुकाबले दोगुनी पुलिस उतारी जा रही है। शहर से आने-जाने के लिए हर हाल में ई-पास लेना अनिवार्य होगा।

सिर्फ यही खुलेगा, बाकी बंद

ग्रामीण कारखाने चालू रहेंगे और बैंकों में कामकाज होगा।
फल, सब्जी, दूध, ब्रेड, चिकन, मटन, मछली, अंडा, ठेलों में फल की बिक्री सुबह 6 से 10 बजे तक होगी।
दवा, स्वास्थ्य, कृषि, बैंकों, फायर बिग्रेड, खाद्य सामग्री से संबंधित गाड़ियां सड़कों पर आना-जाना कर सकेंगी।
घर-घर जाकर दूध देने वाले और अखबार बांटने वाले हॉकरों को सुबह 6 से 9.30 बजे तक की छूट रहेगी।
सफाई, मास्क, सेनिटाइजर, एटीएम, एलपीजी की सप्लाई करने वाली गाड़ियां भी शहर में परिवहन कर सकेंगी।
टेलीकॉम, इंटरनेट सेवाएं, आईटी, मोबाइल रिचार्ज और सर्विसेस की दुकानें भी तय समय के लिए खुलेंगी।
प्रिंट एंव इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, पशु चारा, डाकघर, पोस्टल सेवाएं, सुरक्षा काम में लगी एजेंसियों को छूट रहेगी।
रजिस्ट्री दफ्तर खोले जाएंगे, लेकिन केवल ऑनलाइन अप्वाइंमेंट को ही प्रवेश मिलेगी।
केंद्रीय कार्यालय जैसे आयकर, डाकघर, बीएसएनएल, सेंट्रल जीएसटी जैसे दफ्तर खुले रखे जाएंगे।