Home राज्य छत्तीसगढ़ मदनवाड़ा नक्सली हमले की जांच खत्म, सीएम भूपेश ने विधानसभा में पेश...

मदनवाड़ा नक्सली हमले की जांच खत्म, सीएम भूपेश ने विधानसभा में पेश की रिपोर्ट

41
मदनवाड़ा नक्सली

रायपुर। मदनवाड़ा हमले की जांच रिपोर्ट आज विधानसभा में पेश किया गया। सीएम भूपेश बघेल ने 12 जुलाई 2009 को मदनवाड़ा कोरकोट्टी और पुलिस थाना मानपुर में हुए नक्सली हमले की न्यायिक जांच आयोग की रिपोर्ट और सरकार की कार्रवाई का ब्यौरा पेश किया। इस घटना में तत्कालीन एसपी वीके चौबे समेत 29 जवान शहीद हुए थे।

मदनवाड़ा जांच आयोग की रिपोर्ट में निलंबित एडीजी मुकेश गुप्ता को दोषी ठहराया गया। रिपोर्ट में कहा गया कि तत्कालीन आईजी दुर्ग मुकेश गुप्ता कि लापरवाही एवं असावधानी की अनेक संस्करणों को दर्शाती है। रिपोर्ट के मुताबिक मुकेश गुप्ता क्षेत्र में सुबह 9.30 बजे से शाम 5.15 बजे तक थे यानी उनकी मौजूदगी में सारी हताहत और जनहानि हुई।

मदनवाड़ा नक्सल मुठभेड़ पर विशेष जांच आयोग के चेयरमैन जस्टिस एसएम श्रीवास्तव ने तत्कालीन आईजी मुकेश गुप्ता को घटना के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए माना कि लड़ाई के मैदान में अपनाए जाने वाले गाइडलाइनों तथा नियमों के विरुद्ध काम किया। यही नहीं, शहीद एसपी चौबे को बगैर किसी सुरक्षा कवच के उन्हें आगे बढ़ने का आदेश दिया और खुद एंटी लैंडमाइन व्हीकल में बंद या अपनी खुद की कार में बैठे रहे।

जस्टिस एसएम श्रीवास्तव ने 12 जुलाई 2009 को हुई मदनवाड़ा नक्सली मुठभेड़ की जांच रिपोर्ट में घटनास्थल पर मौजूद रहे पुलिसकर्मियों के बयानों का सूक्ष्मता से आंकलन करते हुए अपनी रिपोर्ट पेश की है। इसमें उन्होंने पाया कि आईजी मुकेश गुप्ता को यह स्पष्ट रूप से पता था कि नक्सलियों ने भारी संख्या में अपनी पोजिशन ले चुके हैं तथा वे सब जंगल में छिपे हुए हैं, और वे रोड के दोनों साइड से फायर कर रहे हैं।

आयोग ने पाया कि मदनवाड़ा में बगैर उचित प्रक्रियाओं के तथा बगैर राज्य सरकार के अनुमोदन तथा एसआईबी के खुफिया रिपोर्टों के बावजूद भी पुलिस कैम्प स्थापित किया गया। उस कैम्प में कोई भी वॉच टावर नहीं था, कोई भी अधोसंरचनाएं नहीं थी।