Home राज्य छत्तीसगढ़ मंत्री लखमा ने सीएम भूपेश को बताया छत्तीसगढ़ के लिए भगवान…जानिए ऐसा...

मंत्री लखमा ने सीएम भूपेश को बताया छत्तीसगढ़ के लिए भगवान…जानिए ऐसा क्यों कहा

46
मंत्री लखमा ने सीएम भूपेश को बताया छत्तीसगढ़ के लिए भगवान…जानिए ऐसा क्यों कहा

रायपुर। प्रदेश के आबकारी और उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने बड़ा बयान दिया है। मंत्री लखमा में सीएम भूपेश को छत्तीसगढ़ के लिए भगवान बताया है। लखमा ने दावा किया कि सीएम भूपेश बघेल के कोई पूर्वज आदिवासी रहे होंगे। मुख्यमंत्री भूपेश छत्तीसगढ़ के लिए भगवान हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जो देवगुड़ी की पूजा कर रहे हैं। इसी कारण बस्तर में जमकर बारिश हो रही है। वहीं, पूर्व नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने लखमा के बयान पर पलटवार करते सीएम भूपेश के वंशावली की जांच की मांग की है।

इसके साथ ही मंत्री कवासी लखमा ने बड़ा दावा किया कि उनके गणपति की पूजा करने से ही बीजेपी की प्रदेश प्रभारी डी पुरंदेश्वरी हटी हैं। इस मामले में उनसे पूछा गया कि घर पर गणपति विसर्जन के दौरान क्या मांगा? इस पर उन्होंने कहा कि हम भगवान से कुछ नहीं मांगे। प्रदेश अध्यक्ष डी पुरंदेश्वरी अपने आप हट गई उनको पता ही नहीं चला।

मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि यह ढोंग रचने वाले लोग हैं। हम भगवान को मानने वाले लोग हैं। भगवान की असली पूजा करने से यही परिणाम मिला, राष्ट्रीय अध्यक्ष भी ज्यादा दिन तक नहीं रहने वाले हैं, हम वोट के लिए भगवान गणेश नहीं बिठाते। समाज के विकास के लिए गणेश बिठाते हैं। बीजेपी की तरह भगवान राम को वोट का एजेंडा नहीं बनाते हैं।

वहीं, आरएसएस के जनसंख्या नियंत्रण को लेकर मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि इंदिरा गांधी ने पूर्व में जनसंख्या नियंत्रण का कानून लाया था। तब यही लोग कूद-कूद कर विरोध कर रहे थे। यह ढोंगी लोग हैं। हमारी पार्टी पंडित नेहरू और महात्मा गांधी के रास्ते में चलने वाली है। छत्तीसगढ़ में जनता का विकास हो और मोहन भागवत को यहां से छुट्टी दें, ऐसी हमारी शुभकामनाएं हैं।

सीएम के वंशावली की समिति बनाकर की जाए जांच

मंत्री कवासी लखमा के बयान पर पूर्व नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने बड़ी प्रतिक्रिया दी है। कौशिक ने कहा कि ‘लखमा के बयान के आधार पर सीएम भूपेश बघेल कीे वंशावली की जांच होनी चाहिए। जांच के लिए रिसर्च टीम गठित करना चाहिए, क्योंकि मंत्री ने जो बयान दिया है, यह गंभीर मामला है। पहले भी कांग्रेस के एक मुख्यमंत्री की जाति को लेकर काफी विवाद हुआ है। इसका निराकरण कैसे हुआ यह सभी जानते हैं।