Home राज्य छत्तीसगढ़ मानसून सत्रः संसदीय सचिवों की नियुक्ति पर विपक्ष ने सरकार को घेरा

मानसून सत्रः संसदीय सचिवों की नियुक्ति पर विपक्ष ने सरकार को घेरा

16
मानसून सत्र

रायपुर। विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन शून्यकाल के दौरान विपक्ष ने संसदीय सचिवों की नियुक्ति का मसला उठाया। इस पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भाजपा को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि क्या इसके पहले विधानसभा में संसदीय सचिवों का परिचय कराया गया है। संसदीय सचिवों के मामले पर यह फैसला आपकी सरकार के समय आया था, क्या आपने उस फैसले के बारे में अवगत कराया। मैं समझता हूं कि संसदीय सचिव के बारे में और कोई चर्चा की आवश्यकता नहीं है।

शून्यकाल के दौरान पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने संसदीय सचिवों के मामले में स्थिति स्पष्ट करने की मांग की। उन्होंने कहा कि संसदीय सचिवों के खिलाफ मोहम्मद अकबर हाई कोर्ट गए थे। कांग्रेस पार्टी ने इसका विरोध किया था अब सरकार ने संसदीय सचिवों की नियुक्ति की है। इस संबंध में स्थिति स्पष्ट होनी चाहिए, क्योंकि यह व्यवस्था का प्रश्न है। इस संबंध में स्थिति साफ की जानी चाहिए।

विधि मंत्री मोहम्मद अकबर ने कहा कि छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय का जो निर्देश आया हुआ है, उसका पालन करते हुए संसदीय सचिव बनाए गए हैं। अकबर ने कहा कि संसदीय सचिव मंत्रियों को सहयोग करने के लिए बनाए गए हैं। इस पर भाजपा विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि संसदीय सचिवों के बारे में सदन को जानकारी दी ही नहीं गई है।

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने भी विषय को उठाते हुए कहा कि कांग्रेस ने ही इसका विरोध किया था। अब कांग्रेस की सरकार ने ही संसदीय सचिव बनाए हैं। इस संबंध में पूरे प्रदेश में भ्रम की स्थिति है। सदन में संसदीय सचिवों का परिचय कराना चाहिए था।