Home मनोरंजन फिल्म समीक्षा Movie-Review: संघर्ष में भी सपनों को सच करने के जिद की कहानी...

Movie-Review: संघर्ष में भी सपनों को सच करने के जिद की कहानी है “सुई-धागा”

16
Movie-Review: संघर्ष में भी सपनों को सच करने के जिद करने की कहानी है सुई-धागा

नई दिल्ली। फिल्म ‘सुई धागा’ शरत कटारिया द्वारा डायरेक्ट और मनीष शर्मा द्वारा प्रोड्यूस की गई है। फिल्म एक आम आदमी के संघर्ष की कहानी है।(वरुण धवन) मौजी पत्नी (अनुष्का शर्मा) ममता संग अपने सपनों की दुनिया को सच करने निकल पड़ता है। फिल्म एक आम आदमी के संघर्ष की कहानी है।

(वरुण धवन) मौजी पत्नी (अनुष्का शर्मा) ममता संग अपने सपनों की दुनिया को सच करने निकल पड़ता है। ममता और मौजी दोनों की कुछ वक्त पहले ही शादी हुई है। मौजी जहां काम करता है वह काम और जगह दोनों ममता को थोड़ी-अजीब लगती है। ऐसे में ममता मायूस हो जाती है। ममता मौजी को अपना खुद का कुछ करने के लिए कहती है। मौजी एक टैलेंटेड व्यक्ति है जिसके बाप-दादा कारीगरी जानते थे। ऐसे में मौजी और ममता दोनों मिलकर सिलाई का काम शुरू करते हैं। अपने काम को दोनों मिलकर कड़ी मेहनत के साथ करते हैं और सफल होते हैं।

इस बीच उनके जीवन में कई तरह की दिक्कतें आती हैं। लेकिन मौजी ममता हर दिक्कत को हंसते-मुस्कुराते पार कर जाते हैं। फिल्म में वरुण का लुक बेहद आम है। वरुण के लुक को एक व्यक्ति (पेशे से दर्जी) को देख कर दिया गया। फिल्म ‘दम लगाके हइशा’ में कपड़ों की सिलाई करने वाले व्यक्ति को देख कर वरुण को ये गेटअप दिया गया।

डायरेक्टर शरत कटारिया की फिल्म ‘दम लगा के हइशा’ में नूर नाम के टेलर ने गारमेंट्स मेकर के तौर पर काम किया। यही वह टेलर हैं जो कि वरुण के किरदार ‘मौजी’ के लुक की इंस्पिरेशन हैं।

वरुण धवन ने पूरी ईमानदारी के साथ अपना किरदार निभाया है जबकि अनुष्का ने भी आसानी से अपने कैरक्टर को जी लिया है। साधारण साड़ी और कम मेकअप में अनुष्का हमेशा अपना किरदार जी जाती हैं। सपॉर्टिंग किरदारों में रघुवीर यादव आपको मौजी के पिता के रूप में जरूर इम्प्रेस करेंगे। मौजी की मां के रूप में आभा परमार को देखना भी सुखद है क्योंकि वह स्क्रीन पर हर समय अपने किरदार के साथ न्याय करती हैं।


डायरेक्टर शरद कटारिया ने फिल्म को काफी रियल रखा है। फिल्म के फर्स्ट हाफ में सारे किरदार अपनी समस्याओं के साथ स्थापित हो जाते हैं। डायलॉग्स को ऐसे अंदाज में लिखा गया है जो रोजाना कि समस्या के बीच भी आपको गुदगुदाते हैं। अच्छी कहानी और अनुष्का-वरुण की बेहतरीन ऐक्टिंग के लिए आप इस फिल्म को देख सकते हैं।