Home राज्य छत्तीसगढ़ लगभग दो हज़ार संग्राहकों के पास नही है तेंदूपत्ता संग्रहण कार्ड, हरे...

लगभग दो हज़ार संग्राहकों के पास नही है तेंदूपत्ता संग्रहण कार्ड, हरे सोने पर सरकार से मिलने वाले बोनस से वंचित रह जाएंगे ग्रामीण

69
ग्रामीण

बीजापुर-बीजापुर जिला मुख्यालय के पत्रकारों का दल जब पामेड़ थाना क्षेत्र के अंदरूनी गांव,झिड़पल्ली,धर्माराम,व पुजारीकांकेर गांव का दौरा करने पर पता चला कि लगभग दो हज़ार ग्रामीण तेंदूपत्ता बोनस से बांछित रह जाएंगे।क्यों कि सारा पत्ता बिना कार्ड के एंट्री से ठेकेदार द्वारा खरीदा जारहा है।

इस संबंध में जब फड़ मुंशी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि आठ दिन ग्रामीणों ने पत्ता (हरा सोना)तोड़ा है और वह अपना हिसाब-किताब रजिस्टर में नोट करता है,मुंशी ने बताया उन्हें किसी भी तरह का वन विभाग की ओर से कोई दस्तावेज नहीं दिया गया है और ना ही विभागीय कर्मचारी द्वारा कोई जानकारी दी गई,इसीलिए तेंदूपत्ता का हिसाब वह अपने रजिस्टर मैं एंट्री करता है बाद मैं ठेकेदार द्वारा उसी हिसाब से ग्रामीणों को पैसा दिया जाएगा।

संग्रहण कार्ड धारियों को वन विभाग से मिलने वाले लाभ

तेंदूपत्ता संग्राहन करने वाले आदिवासी भीषण गर्मी मैं जी तोड़ मेहनत कर तेंदूपत्ता इकट्ठा करते हैं और ठेकेदार के माध्यम से इसे सरकार को बेचा जाता है।सरकार इस पर बोनस देती है।इसी तरह संग्राहक के प्रमुख परिवार को तेंदूपत्ता संग्राहक परिवार को शिक्षा प्रोत्साहन योजना के तहत जो संग्राहक कम से कम 500 गड्डी संग्रहण किया हो उस परिवार को कक्षा 9वीं,10वीं,12 वीं व आईटीआई पढ़ाई के लिए प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रत्येक वर्ष 1200 सौ रूपय दिया जाता है।

इसी तरह संग्राहक 03 वर्ष से कम 02 वर्ष तक गड्डी जमा करने का कार्य करने वाले बच्चों के द्वारा आठवीं दसवीं बारहवीं कक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कृत भी किया जाता है।एक छात्र व एक छात्रा का चयन किया जाता है और उन्हें पृथक पृथक इनाम दिया जाता है। कक्षा आठवीं में दो हज़ार, कक्षा दसवीं में 25 सौ कक्षा 12वीं में तीन हज़ार, 12वीं में 75% से अधिक अंक प्राप्त करने वाले बच्चों को 15000 व ₹25000 प्रोत्साहन राशि के अलावा राज्य व केन्द्र के द्वारा मान्यता प्राप्त संस्था से इंजीनियरिंग, मेडिकल,विधि एमबीए,नर्सिंग कोर्स के लिए 10,000 5000 हजार रुपे तक की राशि दी जाती है। राज्य व केंद्र शासन से गैर व्यवसायिक कोर्स के लिए भी सरकार छात्रवृत्ति देती है।3 वर्ष तक तीन से पांच हज़ार, बीएससी नर्सिंग के लिए 25 हज़ार तक की राशि भी मिलती है।

बीमा का भी लाभ मिलता है– जनश्री बीमा में सामान्य मौत पर 30 हजार अपंगता पर 37500 तथा दुर्घटना में मौत पर उनके परिवार को ₹75000 की राशि दी जाती है साथ ही सामूहिक बीमा का भी लाभ दिया जाता है।

तेंदूपत्ता संग्राहकों नहीं मिलेगा हरे सोने का बोनस

उसूर ब्लॉक के तेंदूपत्ता संग्राहक परिवार को सरकार की तरफ से मिलने वाले योजनाओं का लाभ नहीं मिलेगा।पामेड़ धर्माराम कोंडापल्ली पुजारी कांकेर व अन्य अंदरूनी गांवो के हजारो ग्रामीणों को इसका लाभ नही मिलेगा क्यों कि वन विभाग द्वारा अब तक इनका संग्रहण कार्ड नही बनाया गया है।सरकार द्वारा मिलने वाले बोनस का लाभ लेने संग्रहण कार्ड की आवश्यक्ता होती है,जो अंदरूनी क्षेत्रो मैं विभाग द्वारा नही दिया गया है।

तेंदूपत्ता फडों में नहीं पहुंच रहे वन विभाग के समन्धित अधिकारी-जब पत्रकारों का दल कोंडापली,धर्माराम,पुजारीकांकेर पंहुचा तब मुंशी तेंदूपत्ता के रिकार्ड अपने एक रजिस्टर मैं एंट्री कर रहा था।संग्रहण कार्ड के संबंध मे पूछने पर ग्रामीणों ने बताया कि हम वर्षों से पत्ता तोड़ रहे है लेकिन आज तक हमे कोई कार्ड नही दिया गया है।

मुंशी से पूछने पर पता चला अभी तक किसी भी ग्रामीण मो कार्ड नही दिया गया है,लेकिन ठेकेदार सरकारी रेट से कुछ पैसा ज्यादा देता है।इस से यह प्रतीत होता है कि विभाग ठेकेदार को लाभ पंहुचाने का काम कर रही है।क्यों कि विना कार्ड के एंट्री यह सारा पत्ता दो नंबर मैं चला जायेगा और सरकार के साथ साथ ग्रामीणों को भी लाखों का घाटा होगा।

बच्चों से लिया जारहा है काम

ठेकेदार द्वारा तेंदूपत्ता फड़ो मैं पत्ता पलटाने का काम छोटे-छोटे बच्चों से कराया जारहा है,जी कानूनन अपराध है।ठेकेदार द्वारा पैसा बचाने के चक्कर मे बड़ो से ना कराकर छोटे बच्चों से कराया जारहा है।इतनी भीषण गर्मी मैं छोटे छोटे नाबालिक बच्चों को एक हज़ार गड्डी पलटाने के एवज मैं मात्रा साठ रुपये ही दिया जारहा है जो बहुत ही कम है।