Home अजब गजब बालोद के चित्रसेन के दोनों पैर नहीं, नकली पैरों से नाप दिया...

बालोद के चित्रसेन के दोनों पैर नहीं, नकली पैरों से नाप दिया रूस का माउंट माउंट एलब्रुस

30
माउंट माउंट एलब्रुस

रायपुर। छत्तीसगढ़ के युवा पर्वतारोही चित्रसेन ने इन पंक्तियों को अपने बुलंद हौसले और दृढ़ संकल्प के बूते सार्थक कर दिखाया है। बालोद के चित्रसेन साहू ने कृत्रिम पैरों के सहारे रूस के माउंट एलब्रुस पर फतह हासिल की है। माउंट एलब्रुस पर फतह करने के बाद चित्रसेन ने अपने सफर के बारे में बताया।

चित्रसेन ने बताया कि शिखर तक पहुंचना आसान नहीं था। तापमान 15 से 25 डिग्री तक माइनस था। 70 किलोमीटर की रफ्तार से तेज हवाएं चल रही थी। उस पर सितम यह कि जबरदस्त स्नोफॉल भी हो रहा था। कभी लगता कि अभियान विफल न हो जाए, लेकिन मैंने हौसला नहीं खोया। हर हालात का सामना करते हुए अंततरू मैंने शिखर पर पहुंच कर तिरंगा फहराने में सफलता प्राप्त कर ली। चित्रसेन इस उपलब्धि के बाद 27 अगस्त को भारत और 29 अगस्त को छत्तीसगढ़ लौटेंगे।

कई संगठनों ने सहयोग किया

चित्रसेन ने बताया कि माउंट एलब्रुस की ऊंचाई 5642 मीटर यानी 18510 फीट है। इसको फतह करने के लिए हमारा अभियान 19 अगस्त से प्रारंभ हुआ था। शिखर पर हम 23 अगस्त को सुबह 10.54 बजे (मास्को के समयानुसार) और भारतीय समयानुसार 1.24 पीएम को पहुंचे। इस शिखर तक जाने के लिए उनको छत्तीसगढ़ की अमरीका स्थित एनआरआई संस्था नाचा (नॉर्थ अमेरिका छत्तीसगढ़ एसोसिएशन) ने सहयोग किया। इस अभियान पर करीब साढ़े तीन लाख का खर्च आया। नाचा ने एक लाख का सहयोग किया।