Home रायपुर संभाग गरियाबंद सुपेबेड़ा में फिर एक मौत, किडनी की बीमारी से जूझ रहे शिक्षक...

सुपेबेड़ा में फिर एक मौत, किडनी की बीमारी से जूझ रहे शिक्षक का एम्स में चल रहा था उपचार

14
सुपेबेड़ा में फिर एक मौत, किडनी की बीमारी से जूझ रहे शिक्षक का एम्स में चल रहा था उपचार

गरियाबंद। जिले सुपेबेड़ा में किडनी से मौतों का आंकड़ा नहीं थम रहा है। आज एक बार फिर किडनी पीड़ित व्यक्ति की मौत हो गई। दरअसल, मृतक तुकाराम क्षेत्रपाल पेरीटोनियल डायलिसिस पर था। वे 5 वर्षों से किडनी की बीमारी से जूझ रहे थे। पिछले 15 दिनों से रायपुर एम्स में इलाज चल रहा था। सुपेबेड़ा में अब तक कुल 77 की मौत हुई है।

जानकारी के अनुसार पेशे से शिक्षक तुकाराम को 15 दिन पहले एम्स, रायपुर में भर्ती किया गया था। इस शिक्षक के परिवार में माता-पिता समेत अन्य 10 सदस्यों की किडनी रोग से पहले ही मौत हो चुकी है। वहीं, परिवार का एक और सदस्य जिंदगी व मौत से जूझ रहा है।

गौरतलब है कि पिछले 7 जून को स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव जब सुपेबेड़ा पहुंचे थे, तो परिवार के अन्य सदस्यों ने हालात से अवगत कराते हुए आर्थिक मदद की मांग की थी। वहीं, विधानसभा के शीतकालीन सत्र में 26 नवंबर को पेश किए गए उन आंकड़ों ने सबको चौंका दिया, जिसमें सरकार ने दावा किया है कि सुपेबेड़ा में बीते एक साल में कोई मौत किडनी की बीमारी से नहीं हुई।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हो चुका है कि किडनी की बीमरी से प्रभावित गांव 71 लोगों की मौत हो चुकी है। गांव में लगे शिविर में स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी डायरेक्टर एसके विंदवार के साथ पहुंचे नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. विनय राठौड़ ने भी माना कि अभी भी नए मरीज सामने आ रहे हैं।

उन्होंने ये भी दावा किया कि मरीजों के साथ तालमेल बिठाने में थोड़ा समय लगता है और वे इसके लिए काम कर रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने स्वास्थ्य विभाग द्वारा मरीजों को निःशुल्क दवाई वितरण किए जाने की भी बात कही है।