Home राज्य छत्तीसगढ़ विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष का हमला, पढ़िए पूरी खबर

विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष का हमला, पढ़िए पूरी खबर

32
विधानसभा

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा में बजट सत्र का चौथा दिन आज प्रश्न काल शुरू हुई। इस दौरान कई सवाल सदन में उठाए गए। वहीं, सदन में महिला विधायक छन्नी साहू का मामला गरमाया। इसके साथ ही विधानसभा में बीजेपी ने कानून-व्यवस्था को लेकर काम रोको प्रस्ताव लाया। विधानसभा की सभी कार्यवाही रोककर चर्चा कराने की मांग की। साथ ही भाजपा का आरोप कि राज्य की कानून व्यवस्था पूरी तरह से ठप्प। वहीं, इसपर गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा-प्रदेश में कानून का राज है। गृहमंत्री विधायक छन्नी साहू के पति और प्रमोद शर्मा पर दर्ज मामले की समीक्षा कर रिपोर्ट दें। छन्नी साहू को तत्काल दुगुनी सुरक्षा दें।

दूसरी ओर, सदन में शून्यकाल में छन्नी साहू ने अपने साथ हुई घटना को सदन में उठाया। छन्नी साहू ने सुरक्षा छोड़ने और बिना सुरक्षा के घूमने के मसले पर सदन का ध्यान खींचा। छन्नी ने कहा-झूठी शिकायत पर मेरे पति के खिलाफ गाली-गलौज के जुर्म पंजीबद्ध किया गया। पुलिस प्रशासन ने जांच भी नहीं कराई। तीन महीने में जांच की नौटंकी की जा रही है। जब सत्ता पक्ष की विधायक सुरक्षित नहीं तो आम जनता जैसे सुरक्षित होगी। विधायक के पति को षड्यंत्र पूर्वक फसाया जा रहा है। बिना जांच के कार्यवाही क्यों कि गई? खनिज विभाग के कूट रचित फर्जी मामला बनाया गया।

महिला विधायक छन्नी साहू ने कहा- मैं असमाजिक तत्त्वों के खिलाफ लड़ रही हूं। आज महिला विधायक सुरक्षित नहीं है तो कोई भी सुरक्षित नही है। गलत तरीके से एफआईआर की गई। एक पक्षीय कार्यवाही की गई, आखिर कौन है, जो व्यक्तिगत दुश्मनी के कारण कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने सदन में कहा भ्रष्ट अधिकारियो के खिलाफ कार्यवाही हो। मैं न्याय की गुहार लगा रही हूं।