Home खेल अधिकारियों की खेल मड़ई का आयोजन 9 एवं 10 फरवरी को, ढेड़...

अधिकारियों की खेल मड़ई का आयोजन 9 एवं 10 फरवरी को, ढेड़ सौ से अधिक अधिकारी लेगें खेलों में भाग

12
अधिकारियों की खेल मड़ई का आयोजन 9 एवं 10 फरवरी को, ढेड़ सौ से अधिक अधिकारी लेगें खेलों में भाग

रायपुर। वैसे बहुतेरे अधिकारी अपने- अपने आफिस मे फ़ाईल -फ़ाईल खेलने में और बहुत सारे दूसरे खेलां में मशगूल रहते हैं । कम ही जिनकी कोई हॉबी होती है या मैदानी खेल में रूचि होती है। सरकार खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने नौकरी भी देती है। शासन द्वारा अधिकारी, कर्मचारियों के लिए सिविल सेवा खेल प्रतियोगिता आयोजित करती है। बावजूद इसके सरकारी दफ़्तरों मे कला, संस्कृति, साहित्य की ही तरह खेल के क्षेत्र में भी सन्नाटा पसरा रहता है।

इस सन्नाटे में थोड़ी हलचल पैदा करने तथा खेलकूद आदि के प्रति रूचि, रुझान और संस्कार विकसित करने के उद्देश्य से नवागत अधिकारियों की पाठशाला और वरिष्ठ अधिकारियों के प्रशिक्षण, प्रत्यास्मरण संस्थान यानी छत्तीसगढ प्रशासन अकादमी में 9 और 10 फ़रवरी को खेल एंव युवा कल्याण विभाग के सहयोग से दो दिवसीय खेल मड़ई का आयोजन किया जा रहा है।

ख्यातिनाम खिलाड़ियों के नाम से चार दल

इस दो दिवसीय खेल मड़ई के लिए ख्यातिनाम खिलाड़ियों के नाम से चार दल बनाये गये हैं। इन दलां में मेजर ध्यानचंद दल , सचिन तेंदुलकर, मैरी काम ,पी व्ही सिंधु शमिल है। डिप्टी कलेक्टर, जी एस टी आफिसर, वित्त अधिकारी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, ज़िला एवं ब्लाक चिकित्सा अधिकारियों के अलावा अन्य सेवा के 150 से अधिक अधिकारियों की सक्रिय सहभागिता से एथलेटिक्स के अलावा, दौड़, कबड्डी, फुटबाल, व्हालीवाल, क्रिकेट, बैडमिंटन, रिले रेस, कैरम, चेस, रस्साकस्सी, कुर्सी दौड़ आदि प्रतियोगिता आायोजित की जा रही है । प्रतियोगिता मे शमिल सभी खिलाड़ियों को खेल एंव युवा कल्याण विभाग की ओर से टी शार्ट, अकादमी की ओर से ट्राफ़ी और प्रमाण पत्र दिया जायेगा ।

अकादमी की महानिदेशक श्रीमती रेणु जी पिल्ले और खेल एंव युवा कल्याण विभाग के सचिव श्री सिद्धार्थ कोमल परदेशी की पहल पर अकादमी मे पहली बार हो रही इस खेल मड़ई के प्रति प्रशिक्षु अधिकारियों का उत्साह देखते बनता है ।इस खेल मड़ई के लिए अकादमी की ओर से चार दल प्रभारी , दल नेता और टीम के अनुसार कैप्टिन बनाये गये हैं ।

छत्तीसगढ प्रशासन अकादमी मे खेल ओर साहित्यिक सांस्कृतिक गतिविधियों की निरंतरता के लिए विशेषज्ञों की मदद भी ली जा रही है । गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर 25 जनवरी को अधिकारियों द्वारा राष्ट्रभक्ति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शानदार प्रस्तुति की गई ।