Home देश रुचि सोया के लिए पतंजलि और अडानी विल्मर आज फिर लगाएंगी बोली

रुचि सोया के लिए पतंजलि और अडानी विल्मर आज फिर लगाएंगी बोली

128
रुचि सोया के लिए पतंजलि और अडानी विल्मर आज फिर लगाएंगी बोली
रुचि सोया के लिए पतंजलि और अडानी विल्मर आज फिर लगाएंगी बोली

नई दिल्ली। बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद और अडानी ग्रुप दिवालिया रुचि सोया के अधिग्रहण के लिए आज फिर से बोली लगाएगी। रुचि सोया के अधिग्रहण के लिए पतंजलि और अडानी समूह के बीच होड़ है। सूत्रों के अनुसार रुचि सोया के कर्जदाताओं की समिति ने 30 मई की अपनी पिछले बैठक में संपत्ति का और अच्छा मूल्यांकन प्राप्त करने को लेकर समाशोधन प्रक्रिया में बोली आमंत्रति करने का नया चरण शुरू करने का निर्णय लिया है।

रुचि सोया के लिए समाधान की प्रक्रिया पूरी करने के लिए 12 जून आखिरी तारीख है। फाइनेंशियल क्रेडिटर ने कंपनी से 10,493 करोड़ वसूलने का दावा किया है। रुचि सोया को एसबीआई ने सबसे ज्यादा 1822 करोड़ रुपए का लोन दिया है। सेंट्रल बैंक ने भी कंपनी को 824 करोड़ रुपए का लोन दिया हुआ है।

पतंजली समूह ने बोली के लिए तथा कथित स्विस-चैलेंज प्रक्रिया अपनाए जाने को लेकर अपनी अनापत्ति दे दी है। इसके तहत एक दौर के पिछड़े बोली दाताओें को संशोधित बोली डालने का मौका दिया जाता है। उसके बाद उस दौर के शीर्ष बोली लगाने वाले को भी अपनी बोली संशोधित करने का अवसर दिया जाता है।

पतंजलि आयुर्वेद के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने कहा, ‘कर्जदाताओं की समिति के द्वारा जो भी प्रक्रिया अपनायी जा रही है, हम उसका पालन करेंगे।’ पहले दौर में पतंजलि समूह ने सबसे 4,300 करोड़ रुपए की सबसे ऊंची बोली लगायी है और रुचि सोया में 1,800 करोड़ रुपए की शेयर पूंजी लगाने की प्रतिबद्धता जताई है। इसके विपरीत फार्च्यून ब्रांड खाद्य तेल का कारोबर करने वाली अडाणी विल्मर ने करीब 3,300 करोड़ रुपए की बोली लगायी है।

हाल ही में ईटी नाउ के साथ बातचीत में पतंजलि के प्रमुख आचार्य बालकृष्ण ने कहा था कि वो रुचि सोया को खरीदने के लिए पूरी ताकत से लगे हुए हैं। उन्होंने कहा था कि रुचि सोया की बोली के लिए पतंजलि किसी कंपनी के साथ करार नहीं कर रही है। पहले ऐसी खबरें आई थी कि बोली के लिए पतंजलि गोदरेज ग्रुप की कंपनी गोदरेज एग्रोवेट से करार कर सकती है।