Home देश ममता बनर्जी के गढ़ में गरजे पीएम मोदी बोले- सीएए को जानबूझकर...

ममता बनर्जी के गढ़ में गरजे पीएम मोदी बोले- सीएए को जानबूझकर समझाना नहीं चाहते विपक्षी

11
पीएम मोदी

कोलकाता। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पश्चिम बंगाल में चल रहे भारी विरोध प्रदर्शनों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोलकाता के बेलूर मठ से इस कानून को लेकर केंद्र सरकार का रुख स्‍पष्‍ट किया और बिना नाम लिए ममता बनर्जी सहित विपक्षी नेताओं पर जमकर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि यह कानून नागरिकता देने के लिए है, न कि लेने के लिए।

इस कानून को रातों-रात नहीं बल्कि सोच विचार कर बनाया गया है, लेकिन कुछ राजनी‍तिक दल इसे जानबूझकर समझना नहीं चाहते हैं। उन्‍होंने कहा कि इस कानून के बन जाने के बाद अब पाकिस्‍तान को जवाब देना होगा कि उसने अल्‍पसंख्‍यकों पर जुर्म क्‍यों किया।

बेलूर मठ को अपना घर बताते हुए पीएम मोदी ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर युवाओं में बड़ी चर्चा है। बहुत से सवाल युवाओं के मन में भर दिए गए हैं। बहुत से युवा अफवाहों के शिकार हुए हैं। ऐसे युवाओं को समझाना और संतुष्‍ट करना हम सबकी जिम्‍मेदारी है। राष्‍ट्रीय युवा दिवस पर देश और पश्चिम बंगाल और नॉर्थ ईस्‍ट के युवाओं से इस पवित्र भूमि से कहना चाहता हूं कि नागरिकता देने के ल‍िए हमने कोई रातों-रात कानून नहीं बनाया है।’

स्‍वामी विवेकानंद के जन्‍मदिन राष्‍ट्रीय युवा दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता के बेलूर मठ पहुंचे और कहा कि यह लोगों के लिए तीर्थयात्रा की तरह से है लेकिन उनके लिए ’घर’ आने जैसा ही है। प्रधानमंत्री ने स्‍वामी विवेकानंद को श्रद्धांजलि भी दी।
जनसेवा का मिला रास्‍ता
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बेलूर मठ से ही मुझे जनसेवा का रास्‍ता मिला था और अब मैं 130 करोड़ भारतीयों की सेवा का कर्तव्‍य निभा रहा हूं। रामकृष्‍ण मिशन मुझे हमेशा रास्‍ता दिखाता रहेगा।

बेलूर मठ में मां का प्‍यार

पीएम मोदी ने कहा कि हममें से ज्‍यादातर लोग बेलूर मठ में खिंचे चले आते हैं। विवेकानंद की वाणी और उनका व्‍यक्ति हमें यहां तक खींचकर ले आता है। इस भूमि पर आने के बाद मां शारदा देवी का आंचल यहां बस जाने के लिए एक मां का प्‍यार देता है। स्वामी विवेकानंद जी की वह बात हमें हमेशा याद रखनी होगी जब वह कहते थे कि ’अगर मुझे सौ ऊर्जावान युवा मिल जाएं, तो मैं भारत को बदल दूंगा।’ यानि परिवर्तन के लिए हमारी ऊर्जा, कुछ करने का जोश ही आवश्यक है।

गांधी के विचारों को कर रहे लागू

पीएम मोदी ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून लाकर हमने वही किया है जो गांधी जी कहकर गए थे। उन्‍होंने कहा कि यह दूसरे देशों में प्रताड़‍ति लोगों को नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं।