Home साइंस एंड टेक्नोलॉजी एजुकेशन/करियर Excellent Work: निजी स्कूलों की तर्ज पर ट्रायबल विभाग के शासकीय बालक...

Excellent Work: निजी स्कूलों की तर्ज पर ट्रायबल विभाग के शासकीय बालक छात्रावास में प्रचार प्रसार हेतु एडमिशन ओपन वाले बाटे जा रहे पाम्पलेट, बालक छात्रावास भीमकन्हार के अधीक्षक की सराहनीय पहल

109
सराहनीय पहल

रवि भूतड़ा/बालोद- आज तक आप सभी ने निजी स्कूलों को एडमिशन ओपन और बच्चों के दाखिले के लिए पोस्टर व पाम्पलेट बाटते व सुविधाओं का गुणगान करते हुए प्रचार प्रसार करते हुए देखा होगा, लेकिन अब निजी स्कूलों की तर्ज पर शासकीय स्कुल और छात्रावास के संचालकों द्वारा भी कुछ इसी तरह का प्रचार प्रसार किया जा रहा हैं, सरकारी स्कूलों की ओर ध्यान आकर्षित कर तथा छात्रावास में मिलने वाली बेहतर सुविधाओं को पोस्टर व पाम्पलेट के जरिये प्रचार प्रसार कर बताया जा रहा हैं, जो की एक बेहद ही सराहनीय कदम हैं.

दरअसल डौंडीलोहारा विकासखंड के ग्राम भीमकन्हार में ट्रायबल विभाग द्वारा संचालित 30 सीट वाले शासकीय प्री.मैट्रिक आदिवासी बालक छात्रावास में अधीक्षक कोमल सिंह साहू ने सत्र 2019-20 में प्रवेश हेतु पोस्टर व पाम्पलेट के माध्यम से गाँव-गाँव घूम प्रचार प्रसार कर रहे हैं, ऐसा पहली बार देखा जा रहा हैं की निजी स्कूलों की तर्ज पर कोई शासकीय छात्रावास/हास्टल बच्चों के प्रवेश हेतु बच्चों को मिलने वाली सुविधाओं को पाम्पलेट में बखान कर गाँव-गाँव घूम कर प्रचार प्रसार किया जा रहा हैं, बता दे की भीमकन्हार में स्तिथ 30 सीट वाले इस शासकीय प्री.मैट्रिक आदिवासी बालक छात्रावास में कक्षा छठवीं से दसवीं तक के बच्चों का प्रवेश लिया जाता हैं जिसमे एसटी, एससी तथा ओबीसी के बच्चों की क्लास लगती हैं.

आईये जाने छात्रावास में पढने के लाभ

जिले में संचालित चाहे वह सरकारी स्कुल हो या फिर सरकारी बालक छात्रावास या कन्या छात्रावासों में सर्वसुविधा युक्त हो गई हैं, कई सरकारी स्कूलों में स्मार्ट क्लासेस लग रहे हैं, प्रोजेक्टर के जरिये बच्चों को पढ़ाया जा रहा हैं, निजी स्कूलों में जो सुविधाए होती हैं वह अब सरकारी स्कूलों एवं छात्रावास/हास्टल में देखने मिल रही हैं, वही अगर शासकीय छात्रावास में रहकर पढने के लाभ देखे जाए तो बच्चे के व्यक्तित्त्व का विकास, छात्र में आत्म अनुशासन का विकास, उच्चस्तर की शैक्षणिक उपलब्धि, बच्च एक सामाजिक विकास एवं समूह में कार्य करने की भावना का विकास, स्वस्थ्य समरसता, एकता, भाईचारे का विकास तथा कैरियर के आगे बढ़ने के संबंध में मार्ग दर्शन दिया जाता हैं,

छात्रावासी बच्चों को मिलने वाली सुविधाएं-

छात्रावास में निशुल्क प्रवेश
सर्व सुविधा युक्त आवासीय भवन
स्टडीटेबल व कुर्सिया
दो समय का पौष्टिक भोजन व एक समय का नाश्ता
सप्ताह में एक दिन विशेष भोजन (नॉनवेज)
मनोरंजन हेतु खेल सामग्री एवं टेलीविजन की सुविधा
बोर्ड कक्षाओं के छात्रों को विशेष कोचिंग की सुविधा
माहवार स्वास्थय परीक्षण की सुविधा

“जिले में सभी छात्रावासे सर्व सुविधा युक्त हैं, चाहे वह बालक हो या फिर कन्या छात्रावास, बच्चों के सोने के लिए पलंग, गद्दियाँ, पढने के लिए स्टडीटेबल के साथ टेबल लैम्प की सुविधा हैं, बच्चों को दो समय पौष्टिक भोजन दिया जाता हैं जिसमे हरी सब्जियां भी शामिल हैं, और जो बच्चा नॉनवेज खाना चाहता हो उसे सप्ताह में एक बार वो भी दिया जाता हैं, बोर्ड कक्षाओं के छात्रों को हमारे द्वारा विशेष कोचिंग भी दी जाती हैं, त्यौहार के समय में जो बच्चे घर नही जाते उनके साथ हर त्यौहार बड़ी धूमधाम से हास्टल के स्टाफ के द्वारा मनाया जाता हैं,”
माया वारिअर, सहायक आयुक्त, आदिवासी विभाग