Home राज्य छत्तीसगढ़ एसडीएम मंडावी की उदारता,दिव्यांग शिविर में दिव्यांगों की तकलीफों को देख हटवाए...

एसडीएम मंडावी की उदारता,दिव्यांग शिविर में दिव्यांगों की तकलीफों को देख हटवाए बैरिकेट्स

112
एसडीएम मंडावी की उदारता,दिव्यांग शिविर में दिव्यांगों की तकलीफों को देख हटवाए बैरिकेट्स

रवि भूतड़ा

बालोद। कलेक्टर किरण कौशल के निर्देश पर शुक्रवार को सुबह 11 बजे एसडीएम हरेश मंडावी अचानक जिला अस्पताल पहुचे। एसडीएम को देख अस्पताल के अधिकारी कर्मचारी दंग रह गए। एसडीएम हरेश मंडावी जिला अस्पताल का करीब दो घंटे तक निरीक्षण किया इस दौरान जिला अस्पताल के डॉक्टर व कर्मचारियों के उपस्थिति रजिस्टर को बारी बारी से जांच करते रहे वही अस्पताल के हर वार्ड में पहुंच-पहुंच कर अधिकारी कर्मचारी की उपस्थिति देखे जिससे अस्पताल में मौजूद डॉक्टर व कर्मचारियों में हड़कंप मच गया।

अस्पताल में निरीक्षण के दौरान एसडीएम हरेश मंडावी अस्पताल के अधिकारी कर्मचारी के हाजरी रजिस्टर की जांच करते रहे इस दौरान जिला अस्पताल के सहायक ग्रेड-3 में पदस्थ पी. नायडू अक्टूबर 2017 से अनुपस्थिति पाये गए। वही मलेरिया प्रभारी अधिकारी के.के सिंघा भी अनुपस्थित रहे। जिसके बाद मलेरिया विभाग के कर्मचारियों ने बताया कि के.के सिंघा चिखलाकसा में पदस्थ है। सप्ताह में एक दिन आते है, लेकिन जिला अस्पताल आने का कोई निश्चित दिन नही होता। इस तरह जिला अस्पताल में निरीक्षण के दौरान जिला अस्पताल 5 स्टॉफ शुक्रवार को अनुपस्थित पाये गए।
एसडीएम मंडावी की उदारता,दिव्यांग शिविर में दिव्यांगों की तकलीफों को देख हटवाए बैरिकेट्स

छुट्टी के आवेदन देख कर भड़के एसडीएम

अचानक जिला अस्पताल पहुचे एसडीएम हरेश मंडावी निरीक्षण के दौरान अस्पताल के प्रत्येक वार्ड में पहुच कर स्थितियों का जायजा लेते रहे। इस दौरान अधिकतर कर्मचारियों के छुट्टी के आवेदन अपने विभाग में छोड़ छोड़ कर चले गए थे। जिससे एसडीएम हरेश मंडावी ने नाराजगी जाहिर करते हुए अधिकारियों को कहा कि हर दिन कोई न कोई अधिकारी कर्मचारी अनुपस्थित रहते ही है ये अच्छी बात नही है। यह कहकर मंडावी जिला अस्पताल से चलते बने।

दिव्यांग प्रमाणीकरण शिविर में पहुचे-

प्रमाण पत्र में दिव्यांग प्रतिशत कम करने की शिकायत दिव्यांगों ने जिला अस्पताल पहुचे एसडीएम हरेश मंडावी से की। इस दौरान हरेश मंडावी ने उपस्थित डॉक्टर को समझाइश दी और नियम अनुसार विकलांगो का प्रतिशत देने की बात कही। उल्लेखनीय हो कि जिला अस्पताल में लगे दिव्यांग प्रमाणीकरण शिविर में जिले के सभी दिव्यांग का नवीनीकरण व पंजीयन प्रमाण पत्र बनाए जाने का शिविर लगाया गया है। इस शिविर में 40 प्रतिशत से अधिक विकलांगो को शासन की योजनाओं के पात्र होंगे। इस दौरान प्रमाण पत्र बनाने पहुचे दिव्यांगों ने बताया कि प्रशिक्षण में पहुचे हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर विपिन जैन ने दिव्यांगों के प्रमाण पत्र में प्रतिशत कम करने की शिकायत एसडीएम से किये।

शिकायत के दौरान उपस्थित दिव्यांग सुवरबोड़ निवासी सुरेश दास को प्रशिक्षण के समय डॉक्टरों ने दिव्यांग के रूप में 60 प्रतिशत मिला था। जिसके बाद डॉक्टर विपिन जैन ने 60 प्रतिशत को घटा कर 40 प्रतिशत कर दिया वही एक विकलांग लड़की पूर्णिमा का 70 प्रतिशत से 50 प्रतिशत कर दिया गया। जिससे नाराज़ दिव्यांगों ने एसडीएम से शिकायत की। जिसके बाद एसडीएम ने विकलांग व्यक्तियों के साथ मौजूद डॉक्टर विपिन जैन से मुलाकात कर समस्या का समाधान करने की निर्देश दिए।

दिव्यांगों की तकलीफों को देख बैरिकेट्स को हटवाया-

दिव्यांगजनों की तकलीफ को देख कर एसडीएम हरेश मंडावी ने जिला अस्पताल में लगे बैरिकेट्स को हटाने के निर्देश दिए। तब दिव्यांगों को राहत मिली। बता दे कि जिला अस्पताल में लगे शिविर तक जाने के लिए दिव्यांग व्यक्ति अपने परिजनों के साथ वाहनों में पहुचने लगे, जिसके बाद अस्पताल के सामने लगे बैरिकेट्स से पहले दिव्यांग व्यक्तियों को वाहन से उतर कर शिविर स्थल तक जाना पड़ रहा था।

जिससे दिव्यांगों को भारी दिक्कतो का सामना करना पड़ता था। इस दौरान जिला अस्पताल पहुचे एसडीएम हरेश मंडावी ने बैरिकेट्स को हटाने के निर्देश दिए व दिव्यांगों के वाहन को शिविर स्थल तक ले जाने का निर्देश दिए।