Home राज्य छत्तीसगढ़ नवरात्रि का छठा दिनः माता कात्यायनी की उपासना से रोग, भय और...

नवरात्रि का छठा दिनः माता कात्यायनी की उपासना से रोग, भय और संताप का होगा नाश

22
माता कात्यायनी

रायपुर। महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर आदि-शक्ति ने उनके यहां पुत्री के रूप में जन्म लिया था, इसलिए वे कात्यायनी कहलाती हैं। स्कंद पुराण के अनुसार मां कात्यायनी परमेश्वर के नैसर्गिक क्रोध से उत्पन्न हुई थीं। माता कात्यायनी का भी वाहन सिंह है।

स्वरूप
माता कात्यायनी का भी वाहन सिंह है। इस पर आरूढ़ होकर उन्होंने महिषासुर का वध किया। इनकी दो भुजाएं अभय मुद्रा और वर मुद्रा में हैं। अन्य दो भुजाओं में खड्ग और कमल है।

महत्त्व
मां कात्यायनी की पूजा से रोग, शोक, संताप, भय का नाश होता है।