Home राज्य छत्तीसगढ़ पहाड़ों में बर्फबारी, लेकिन छत्तीसगढ़ में ठंड के तेवर नरम

पहाड़ों में बर्फबारी, लेकिन छत्तीसगढ़ में ठंड के तेवर नरम

19
ठंड

अंबिकापुर। पहाड़ों में जमकर बर्फबारी हो रही है, लेकिन छत्तीसगढ़ में ठंड के तेवर नरम पड़े हैं। नवम्बर के अंतिम सप्ताह में भी सरगुजिहा ठंड का असर नहीं दिख रहा है। आसमान में बादल छाए रहने के कारण दिन और रात का औसत तापमान क्रमशः 4 और 2 डिग्री अधिक है। इस वजह से ठंड का अहसास अपेक्षाकृत कम है। अमूमन नवम्बर के अंतिम सप्ताह में सरगुजा में कड़ाके की ठंड पड़ती है। लेकिन इस बार मौसम बदला-बदला सा नजर आ रहा है।

मौसम विज्ञानी एएम भट्ट ने बताया कि नवम्बर के आरम्भ में कायर, महा और बुलबुल जैसी शक्तिशाली चक्रवाती तूफानों के बाद किसी विशेष महासागरीय परिघटनाओं के आकार न लेने तथा दुर्बल पश्चिमी विक्षोभों की उत्तर भारत में लगातार सक्रियता के प्रभाव के कारण मध्य भारत में नमी एवं वायु प्रवाह बाधित रही है।

15 नवम्बर से उत्तर भारत से कुछ शुष्क हवाएं चलनी प्रारम्भ हुई थी तो अंबिकापुर का न्यूनतम तापमान गिरकर 23 नवम्बर को 12 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा था। इस बीच पछुआ विक्षोभों की लगातार उपस्थिति जम्मू कश्मीर, हिमाचल, पंजाब आदि राज्यों में देखी गयी।

उत्तर भारत के आसमान पर लगातार बादलों की आवा-जाही से मध्य भारत मे वायु प्रवाह कम हो गया। शुष्क हवाओं की आपूर्ति नहीं होने के कारण नवम्बर के उत्तरार्ध में न्यूनतम तापमान में उछाल आया और पिछले दो तीन दिनों से अम्बिकापुर का न्यूनतम तापमान दैनिक औसत न्यूनतम से चार डिग्री तक अधिक बना हुआ है। हालांकि उच्च स्तरीय बादलों की उपस्थिति के कारण अधिकतम तापमान में अपेक्षाकृत वृद्धि कम रही है।

पारा 2 डिग्री ऊपर

दो-तीन दिनों से अधिकतम तापमान दैनिक औसत से लगभग दो डिग्री सेल्सियस ऊपर बना हुआ है। वर्तमान में पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता के कारण जम्मू कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल सहित उत्तराखंड और उत्तरी उत्तरप्रदेश के ऊपर बादल बने हुए हैं। जिसके कारण अम्बिकापुर के न्यूनतम और अधिकतम दोनों तापमानों पर आगामी दो तीन दिनों तक कोई कमी आती नहीं दिख रही है।