Home देश सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी- हम नहीं तो कौन करेगा व्यक्तिगत स्वतंत्रता...

सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी- हम नहीं तो कौन करेगा व्यक्तिगत स्वतंत्रता की रक्षा

16
सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की अंतरिम जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। अर्नब गोस्वामी की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने मामले की जांच सीबीआई के कराने की मांग की है। इस दौरान कोर्ट के सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर राज्य सरकारें व्यक्तियों को टारगेट करती हैं, तो उन्हें पता होना चाहिए कि नागरिकों की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए शीर्ष अदालत है।

सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा, श्यदि हम एक संवैधानिक न्यायालय के रूप में व्यक्तिगत स्वतंत्रता की रक्षा नहीं करेंगे, तो कौन करेगा?.अगर कोई राज्य किसी व्यक्ति को जानबूझकर टारगेट करता है, तो एक मजबूत संदेश देने की आवश्यकता है। हमारा लोकतंत्र असाधारण रूप से लचीला है।