Home राज्य छत्तीसगढ़ जिनके दम पर मिला स्वच्छता का अवार्ड, वो नंगे हाथों से छांट...

जिनके दम पर मिला स्वच्छता का अवार्ड, वो नंगे हाथों से छांट रहीं शहर की गंदगी

221

@ दिलीप जायसवाल
अंबिकापुर।
अम्बिकापुर नगर निगम ने स्वच्छता का अवार्ड लेकर कई कीर्तिमान तो स्थापित कर दिये हैं। लेकिन इस कीर्तिमान के पीछे जो चेहरे हैं उनकी हालत कही अलग है। शहर के घर घर से कचरा कलेक्शन करने वाली महिलाओं को संसाधन तक मयस्सर नहीं है, नतीजन नंगे हाथों से लोगों की गंदगी को छांटने का काम कराया जा रहा है।
दरअसल नगर निगम को अवार्ड स्वच्छता के क्षेत्र में मिला हैं और शहर को स्वच्छ रखने में स्व-सहायता समूह की महिलाओं का सबसे बड़ा योगदान है। लेकिन कचरा कलेक्शन करने वाली इन महिलाओं के पास हैंड ग्लब्स भी नही है, नतीजन नंगे हाथों से ये महिलाएं कचरा बीनने को मजबूर हैं। कचरा कलेक्शन के लिए बनाए गए एसएलआरएम सेंटर की ये तस्वीरें नगर निगम की लापरवाही की दास्तां बयां कर रही हैं। 
लेकिन नगर निगम के महापौर ने इस हकीकत को नकारते हुए संसाधन उपलब्ध होने की बात कही है। साथ ही संक्रमण न हो इसलिए हेल्थ चेकअप की बात कह रहे हैं। बहरहाल नंगे हाथों से महिलाएं लोगों के घरों से लाई गंदगी को छांटती हैं। लिहाजा संक्रमण का खतरा होना भी लाजमी है। इस लापरवाही की तस्वीरें कैमरे में कैद होने के बाद भी महापौर स्थिति को सामान्य मान रहे हैं। हालांकी उन्होंने कर्मचारियों की लापरवाही को स्वीकारा है लेकिन अब भी इस ओर कोई ठोस पहल की बात सामने नही आई है।