Home राज्य छत्तीसगढ़ आज कमरछठः संतान की लंबी उम्र के लिए माताएं रखेंगी व्रत

आज कमरछठः संतान की लंबी उम्र के लिए माताएं रखेंगी व्रत

182
कमरछठ

रायपुर। आज हलषष्ठी (कमरछठ) है। माताएं पूरे दिन व्रत रखेंगी। दोपहर में पूजा के लिए माताएं उस स्थान पर जुटेंगी जहां सगरी बनाई गई है। यहां हलषष्ठी माता की स्थापना कर 6 प्रकार के भोग चढ़ाए जाएंगे। 6 तरह के खिलौने अर्पित किए जाएंगे। फिर 6 तरह की कथाएं कहीं जाएंगी और सगरी में 6 बार जल डाला जाएगा। इसके बाद माताएं अपनी संतान की पीठ पर 6 बार कपड़े की पोटली से थाप मारेंगी और 6 प्रकार की भाजी खाकर अपना व्रत पूर्ण करेंगी।

महामाया मंदिर के पुजारी पं. मनोज शुक्ला ने बताया कि कमरछठ को हलषष्ठी, हलछठ या खमरछठ के नाम से भी जाना जाता है। माताएं सुबह महुआ पेड़ की डाली से दातून करें और व्रत का संकल्प लें। कोशिश करें कि घर में सगरी बनाएं। इसके लिए घर के आंगन में अगर-बगल दो गड्ढे खोदें। इसे बेर, पलाश, गूलर की टहनियों, काशी आदि फूलों से सजाएं। इसके सामने मिट्टी के खिलौने, शिवलिंग, गौरी-गणेश, कार्तिकेय, नंदी और हलषष्ठी माता की प्रतिमा स्थापित करें।

आसपास रहने वाली अन्य माताओं को इकट्ठा करें और सब मिलकर माता हलषष्ठी की कथा का श्रवण करें। माता को सुहाग सामग्री अर्पित करें। फिर सगरी में जल अर्पित करें। कपड़े का एक टुकड़ा अपने साथ रखें। इस कपड़े को सगरी के जल में डूबाकर संतान की पीठ पर 6 बार थपकी मारें। इसके बाद माताएं पसहर चावल, 6 प्रकार की भाजी, दही आदि ग्रहण कर व्रत पूर्ण कर सकती हैं।