Home राज्य छत्तीसगढ़ विधानसभा में पूर्व सीएम अजीत जोगी को श्रद्धांजलि, सीएम भूपेश बोले- जीते...

विधानसभा में पूर्व सीएम अजीत जोगी को श्रद्धांजलि, सीएम भूपेश बोले- जीते जी मिथक बन गए थे जोगी

19
विधानसभा

रायपुर। विधानसभा में आज से मानसून सत्र शुरू हो गया है। सत्र की शुरुआत पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को श्रद्धांजलि देने के साथ शुरू हुई। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि वे जीते जी मिथक बन गए थे। किदवंती बन गये थे। भाषण, लेखनी से प्रभावित हुई बिना कोई नहीं रह सकता था. उनके जाने से प्रदेश और सदन को अपूरणीय क्षति हुई है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अजीत जोगी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उनकी विशिष्ट भाषण थी। राजकुमार कॉलेज में उन्होंने कहा था मैं सपनों का सौदागर हूं। वे सर्वहारा वर्ग के लिए लड़ते रहे. जब सूखा पढ़ा तो कोष खाली था, उस वक्त उन्होंने राहत दी, पानी की व्यवस्था दी, बड़ा काम था। नवगठित तीन राज्यों में छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था अच्छी रही। राज्य वित्तीय प्रबंधन अच्छा रहा है तो नींव मजबूत रहा तो मकान अच्छा बना।

छत्तीसगढ़ियों के लिए जिए जोगीः धर्मजीत

सत्र के दौरान विधायक धर्मजीत सिंह ने कहा कि अजीत जोगी छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ियों के लिए जिये. तेंदूपत्ता की नीति भी उनकी देन है, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में खरीदी आज भी उसी से हो रही है. हिंदुस्तान में पहली बार किसी ने धान खरीदी का निर्णय लिया। काम के बदले अनाज योजना की शुरुआत की, नई राजधानी का भूमि पूजन कराया।

पूर्व मुख्यमंत्री को श्रद्धांजलि देते हुए जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ विधायक दल के नेता धर्मजीत सिंह भावुक हो गए. अजीत जोगी के व्यक्तित्व और कृतित्व पर बोलते हुए उन्होंने पुराने संस्करण भी साझा किए। उन्होंने कहा कि जब अजीत जोगी के मुख्यमंत्री बनने का दौर था तब मैंने उनके खिलाफ बगावत कर दी थी।

उस समय 16 विधायक मेरे साथ हो गए थे। अजीत जोगी मुझसे काफी नाराज थे, लेकिन आदिवासियों पर अत्याचार के मामले में जब मैं उनके सीएम बनने के 10-15 दिनों बाद ही उनसे मिलने गया, उन्होंने ना सिर्फ मेरी बात सुनी, बल्कि छत्तीसगढ़ के पहली न्यायिक आयोग का गठन किया और उन आदिवासियों को न्याय दिलाया।