Home राज्य राजस्थान जब तक 5% आरक्षण नहीं मिल जाता तब तक नहीं रहेगा नहीं...

जब तक 5% आरक्षण नहीं मिल जाता तब तक नहीं रहेगा नहीं रुकेगा : गुर्जर नेता किरोरी सिंह

5

राजस्थान में बीते तीन दिनों से चल रहा गुर्जर आरक्षण आंदोलन आक्रामक हो गया है. ऐसे में गुर्जर नेता किरोरी सिंह बैंसला ने कहा, ‘जब तक हमें 5% आरक्षण नहीं मिल जाता तब तक आंदोलन नहीं रुकेगा. यह मेरा व्यक्तिगत अनुरोध है कि सरकार राजस्थान के लोगों को भड़काने के लिए कुछ भी नहीं करे, लोग मेरे निर्देशों का इंतजार कर रहे हैं. इसे शांतिपूर्ण तरीके से हल करें. जितना पहले उतना बेहतर.’

आंदोलन को शांत करने के लिए बीते शनिवार को सरकार की ओर से वार्ता का न्योता लेकर पहुंचे मंत्री विश्वेंद्र सिंह को गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला ने साफ कर दिया था कि जो भी बात होगी, यहीं होगी. हमारा आंदोलन जारी रहेगा.इधर आंदोलनकारियों के आक्रामक रवैये को देखते हुए भारतीय रेलवे ने चार ट्रेनों को डायवर्ट किया गया है. वहीं गुर्जर रिजर्वेशन के आंदोलन के कारण एक ट्रेन रद्द कर दिया गया है. 12 फरवरी की 1 ट्रेन भी रद्द कर दी गई है.

वहीं आंदोलन के रास्ते से आने वाली अन्य ट्रेनों को रद्द करने का फैसला किया है. उत्तर रेलवे ने उन ट्रेनों की लिस्ट जारी की है जो रद्द कर दी गई हैं.

रेलवे ने कहा- ‘कोटा डिवीजन में चल रहे गुर्जर विरोध के कारण 10 फरवरी को उत्तर रेलवे की 18 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है. 11 फरवरी को चलने वाली 10 ट्रेनें रद्द, 12 फरवरी को चलने वाली 12 ट्रेनें रद्द और 13 फरवरी को चलने वाली 15 ट्रेनें रद्द.’

आंदोलनकारी और पुलिस के बीच हुई झड़प

सवाई माधोपुर में गुर्जर समुदाय द्वारा 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर लोग विरोध कर रहे हैं. विरोध के क्रम में वो रेल का रास्ता रोकने के लिए पटरियों पर धरना दे रहे हैं.

इसके पहले आंदोलनकारियों ने उग्र रुप धारण कर लिया. आंदोलनकारी दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग की पटरियों पर बैठे हैं. इसी में धौलपुर के दिल्ली-मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-3 को जाम करने के दौरान आंदोलनकारियों और पुलिसकर्मियों में झड़प हो गई.

इसके बाद भीड़ ने पुलिस पर पत्थरबाजी शुरू कर दी. जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी हवाई फायरिंग शुरू कर दी. इससे यहां अफरातफरी का माहौल हो गया. भीड़ ने तीन वाहनों को आग के हवाले कर दिया. मौके पर तनाव के हालात बने हुए हैं.

गुर्जर समाज सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्‍थानों में प्रवेश के लिए गुर्जर, रायका रेबारी, गडिया, लुहार, बंजारा और गड़रिया समाज के लोगों को पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग कर रहा है.