Home क्राइम सिलगेर कैंप के विरोध में ग्रामीण, साथ में आए नक्सलियों ने 21...

सिलगेर कैंप के विरोध में ग्रामीण, साथ में आए नक्सलियों ने 21 मई को बंद का आव्हान किया

25
सिलगेर कैंप

बीजापुर। जिले के सिलगेर में सीआरपीएफ कैंप के खिलाफ ग्रामीणों का विरोध-प्रदर्शन के समर्थन में नक्सली भी आ गए हैं। नक्सलियों के दक्षिण सब जोनल ब्यूरो ने प्रेस नोट जारी किया है। नक्सलियों ने प्रेस नोट में कहा है कि सिलगेर में सीआरपीएफ कैंप के खिलाफ पिछले चार दिनों से ग्रामीण शांतिपूर्ण धरना-प्रदर्शन कर रहे थे, उन ग्रामीणों पर 17 मई को राज्य सरकार के आदेश पर बस्तर आईजी सुंदरराज पी और बीजापुर एसपी कमल लोचन कश्यप के निर्देशन पर अंधाधुंध गोलीबारी की गई, जिसमें 3 ग्रामीणों की मौत हो गई।

भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) का दक्षिण सब जोनल ब्यूरो ने कड़ी निंदा करते हुए जनता को आव्हान करती है कि इस नरसंहार के खिलाफ 21 मई को बीजापुर-सुकमा दो जिलों के बंद को सफल बनाए।

नक्सलियों ने प्रेस नोट में लिखा है कि कोरोना महामारी के प्रकोप और लॉकडाउन के प्रतिबंधों की वजह से एक तरफ जनजीवन अस्तव्यस्त हो रहा है, तो दूसरी तरफ बस्तर के जल-जंगल-जमीन को कॉरपोरेट कंपनियों को लुटाने लगातार पुलिस और अर्ध-सैनिक बलों के कैंप बैठाए जा रहे हैं।

इसी सिलसिले में 12 मई को जनता के विरोध के बावजूद जबरन सिलंगेर में सीआरपीएफ का कैम्प लगाया गया है। इसके खिलाफ ग्रामीण शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहे थे। जनता के इस विरोध को सहन न करने वाली पुलिस जनता का अमानवीय दमन कर रही है।