Home खेल क्रिकेट इंग्लैंड के कप्तान पर की थी समलैंगिक टिप्पणी, इस बॉलर पर लगा...

इंग्लैंड के कप्तान पर की थी समलैंगिक टिप्पणी, इस बॉलर पर लगा 4 मैच का बैन

6
इंग्लैंड के कप्तान पर की थी समलैंगिक टिप्पणी

दुबई: इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने समलैंगिकता से जुड़ी कथित टिप्पणी पर कड़ा फैसला लिया है. उसने यह टिप्पणी करने वाले वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज शेनन गैब्रियल (Shannon Gabriel) पर चार मैच का प्रतिबंध लगा दिया है. गैब्रियल ने इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच के इंग्लैंड के कप्तान जो रूट (Joe Root) से बहस के दौरान यह टिप्पणी की थी. जो रूट ने इस मैच में शतक बनाया था. इंग्लैंड ने यह मैच 232 रन से जीता था. हालांकि, वह तीन मैचों की टेस्ट सीरीज (England vs West Indies) 1-2 से हार गया.

कैरेबियाई गेंदबाज शेनन गैब्रियल और जो रूट के बीच यह विवाद मैच के तीसरे दिन हुआ था. जो रूट ने इस मैच के तीसरे दिन जो डेनली (69) के साथ तीसरे विकेट के लिए 74 रन की साझेदारी की. शैनन गैब्रियल से उनकी बहस भी इसी साझेदारी के दौरान हुई. इस बहस का बाद का हिस्सा स्टंप माइक में कैद हो गया था. इसमें रूट कहते हैं, ‘इसका इस्तेमाल बेइज्जती करने के लिए नहीं कीजिए. समलैंगिक (गे) होने में किसी तरह की बुराई नहीं है.’ दरअसल, यह रूट की प्रतिक्रिया थी. इससे पहले गैब्रिएल ने जो कहा था वह माइक में नहीं आया था. हालांकि, अंपायर ने उनसे इस मसले पर बात की थी.

गैब्रियल ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है

आईसीसी ने मैच के बाद बाद शेनन गैब्रियल पर कार्रवाई की. उनकी मैच फीस का 75% जुर्माना लगाने के साथ-साथ उनके खाते में तीन डीमेरिट अंक भी जोड़ दिया गया. इससे 24 महीने के अंदर गैब्रियल के खाते में आठ डीमेरिट अंक हो गए. इस कारण उन पर चार मैच का प्रतिबंध लग गया. गैब्रियल ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. इसलिए अब उनके खिलाफ औपचारिक कार्रवाई की जरुरत नहीं पड़ेगी. गैब्रियल ने इस मैच की दोनों पारियों में दो-दो विकेट लिए.

इस प्रतिबंध के बाद गैब्रियल अब इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले पांच मैचों की वनडे सीरीज के पहले चार मैचों में नहीं खेल पाएंगे. गैब्रियल को इससे पहले नवंबर 2018 में मीरपुर टेस्ट से निलंबित किया गया था.

इससे पहले, दो अलग-अलग मामलों में गैब्रियल के खाते में पांच डीमेरिट अंक थे जो कि अप्रैल 2017 में पाकिस्तान के खिलाफ जमैका टेस्ट में और पिछले साल नवंबर में बांग्लादेश के खिलाफ चटगांव टेस्ट में उन्हें मिला था. उनके खाते में तीन और डीमेरिट अंक जुड़ते ही वह अंक हो गए जोकि आईसीसी की आचार संहिता के 7.6 के उल्लंघन से संबंधित है. इसके तहत चार मैचों से निलंबित करने का प्रावधान है.