Home राज्य छत्तीसगढ़ ​​​​​​हर गांव में बनाये जाएंगे ’स्मार्ट घुरूवा’

​​​​​​हर गांव में बनाये जाएंगे ’स्मार्ट घुरूवा’

15
​​​​​​हर गांव में बनाये जाएंगे ’स्मार्ट घुरूवा’
????????????????????????????????????

राजनांदगांव : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि प्रदेश के हर गांव में ’स्मार्ट घुरूवा’ बनाए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कल यहां अपने निवास में राजनांदगांव जिले से बड़ी संख्या में आए किसानो को संबोधित करते हुए कहा की किसानों ने खैरागढ़ विकासखंड में स्थित प्रधान पाठ बैराज योजना की नहर लाईनिंग कार्य के लिए इस वर्ष के बजट में 30 करोड़ रूपये की राशि का प्रावधान करने के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट किया। किसानों ने फूलों की विशाल माला पहनाकर उनका अभिनंदन किया।

नहरों के सुधार कार्य के बाद इस सिचांई योजना के आसपास के 48 गांवो के किसानों को खेती के लिए पानी मिल सकेगा। इस अवसर पर डांेगरगढ़ विधायक भुवनेश्वर बघेल और बिलाईगढ़ विधायक चन्द्रदेव राय भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ी भाषा में किसानों को बताया कि गांवों में ’नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी’ के बेहतर प्रबंधन से खेती को लाभप्रद कैसे बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक ढं़ग से गांव के नरवा(नाला) को रिचार्ज करने के लिए ट्रीटमेंट किया जाए तो इससे नाले में पानी बढ़ेगा और गांव में भूजल स्तर में भी सुधार होगा। श्री बघेल ने गांव के दैहान(गौठान) को घेर कर वहां पशुओं के लिए शेड, पानी और चारे की व्यवस्था कर दी जाए और वहां पशुओं को एक साथ रखा जाए, तो खेत की फसल को पशुओं से बचाने के लिए खेतों को घेरने में होने वाला खर्च, पशुओं की रखवाली और चराई का खर्च बचाया जा सकता है।

गौठान में पशुओं के गोबर से बायो गैस बनाने के प्लांट स्थापित किए जा सकते हैं और घरों में खाना बनाने के लिए गैस कनेक्शन दिए जा सकते हैं। इससे रसोई गैस पर होने वाला खर्च बच सकता है और लगभग 300 रूपये के खर्च पर घर का खाना बन सकता है। गौठान में ही पशुओं के गोबर से कम्पोस्ट खाद तैयार की जा सकती है। गांव के ही 8-10 युवाओं को बायो गैस प्लांट के मेंटेनेन्स, कम्पोस्ट और वर्मी खाद तैयार करने का प्रशिक्षण प्रदान कर उन्हें इसके माध्यम से रोजगार भी दिया जा सकता है।

इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी। मुख्यमंत्री ने किसानों द्वारा मुड़ीपार जलाशय, मांेगरा जलाशय, छुरिया विकासखंड स्थित मनोहर सागर जलाशय, पनीयाडोब के लोढ़ नाला और डोंगरीटोला में सिंचाई बांध निर्माण की किसानों की मांग का परीक्षण कराने और समुचित कार्यवाही का आश्वासन दिया।